Redirecting in 20 seconds...

मेरा जिस्म

मेरे दोस्तो, मेरा नाम सिया है। मेरा बदन काफ़ी खूबसूरत है, रंग गोरा है और उभार भरा भी। मैंने हमेशा से ही अपने शरीर का बहुत ख्याल रखा है।
अपने शरीर को सुंदर और स्वस्थ रखने के लिए मैं सब कुछ करती रही हूँ। मेरे शरीर बहुत लुभावना है यही कारण है कि सभी हमेशा मेरी तरफ़ आकर्षित रहते रहे हैं।

मेरे पीछे हमेशा से ही सभी लड़के दीवाने रहे हैं। कईयों ने मुझे प्रोपोज़ भी किया। मैं भी अब तक कई लड़कों के साथ रिश्ते में रह चुकी हूँ. जो मुझे पसंद आये और उनमें से कई के साथ सेक्स भी कर चुकी हूँ।

अब तक मैं सेक्स के काफ़ी अनुभव कर चुकी हूँ. मुझे इसमें बहुत मज़ा आता है। आज मैं आप लोगों को अपने कई किस्सों में से एक किस्सा बताने जा रही हूँ जो बेहद यादगार है।

मैं पहली बार यहाँ अपनी सेक्सी स्टोरी इन हिंदी लिख रही हूँ।

यह बात उस समय की है जब मैं कॉलेज में थी। मैं एक विवेक नाम के लड़के से बात किया करती थी जो मुंबई में रहता था। हम काफ़ी वक्त तक एक-दूसरे से बात करते थे।

हम पहली बार तब मिले थे जब वो मेरे पड़ोस में अपने रिश्तेदारों के घर आया था। पहले हम एक-दूसरे के ज्यादा करीब नहीं आए थे.

मेरी पड़ोस की सहेली जो कि उसकी बहन लगती थी उसकी वजह से हम मिले और हमारी दोस्ती हुई। फिर हम एक साथ घूमने लगे, बातें करने लगे और हम करीब होते गए।
तब से ही हम फोन पर भी बात करने लगे।

वो मुझसे उम्र में थोड़ा बड़ा था पर हमें कोई दिक्कत नहीं थी। जब हम मिले थे तब मैं उस वक्त बारहवीं में थी और उसकी पढ़ाई खत्म होने वाली थी. वो अपने होटल और रेस्टोरेंट के बिजनेस को आगे बढ़ाने वाला था।

कुछ दिन बाद वो वापस चला गया. फिर हम सिर्फ फोन पर बात करने लगे।

एक दिन बात करते हुए उसने मुझे मिलने के लिए पूछा. हम बहुत वक्त से नहीं मिले थे।
मैंने उसे कहा कि वो मेरे पास आ जाए.
तो उसने कहा कि वो नहीं आएगा बल्कि मैं उसके पास आऊँ।

उसकी पढ़ाई खत्म हो गई थी और अब वो बिजनेस सँभालता था।

तो मैं उससे मिलने उसके पास चली गई।

मेरे मम्मी-पापा मुझे कुछ करने से रोकते नहीं थे. पर फिर भी उनकी तसल्ली के लिए मैंने उन्हें कह दिया कि मैं कालेज ट्रिप पर जा रही हूँ.
और मेरी सहेलियों से कहा कि वो सब संभाल लें।

फिर मैं विवेक के पास चली गई। वो मुझे लेने एयरपोर्ट आया। हम एक-दूसरे को देखते ही जोड़ से गले लग गए।

वो मुझे लेकर अपने एक होटल ले गया और मुझे एक शानदार सा कमरा रहने के लिए दिया।

उसने बताया कि ये उसके सभी होटलों में सबसे शानदार कमरा है. इसे उसने मेरे लिए स्पेशल सजाया है।
वो कमरा बहुत खूबसूरत था और साथ ही वहाँ कई गिफ्ट थे जो वो मेरे लिए लाया था।

उसने मुझे स्पेशली एक वेस्टर्न शोर्ट ड्रेस दी। फिर उसने मुझे अपनी बांहों में भर लिया और हम किस करने लगे।
किस करते हुए ही उसने मुझे उठा लिया और बेड पर ले गया।

हमने एक-दूसरे को जकड़ रखा था। काफ़ी देर तक हम लिपटे रहे और एक-दूसरे के साथ जीभ और होंठों से खेलते रहे।

काफ़ी देर तक किस करने के बाद उसने मुझे आराम करने कहा और कहा कि शाम को मैं उसकी दी ड्रेस में तैयार रहूँ।
फिर मैंने थोड़ा लंच किया और थोड़ी देर आराम किया।

शाम को मैं उसी ड्रेस को पहन कर तैयार हो गई।

थोड़ी देर में विवेक आया. वो तो मुझे बस देखता ही रह गया।
मैंने उससे पूछा- क्या हुआ?
तो वो मेरी तारीफ़ करने लगा।

फिर उसने मुझे फूल दिये, मैंने फूल ले लिये। फिर वो मुझे अपने साथ टैरेस पर ले कर गया.
मुझे कुछ समझ नहीं आया कि वो मुझे टैरेस पर क्यों ले जा रहा है।

पर मैंने वहाँ जाकर देखा कि विवेक ने वहाँ पर बहुत तैयारी की है। मैं ये सब देख कर बहुत हैरान थी और बहुत खुश भी।
वहाँ ऊपर से नज़ारा बहुत खूबसूरत था।

हमने डिनर किया. वहाँ काफ़ी रोमांटिक म्यूजिक बज रहा था जिस पर हमने साथ में डांस किया।
फिर उसने मुझे ड्रिंक दिया और हम नज़ारे देखने लगे और उस वक्त का मज़ा लेने लगे।

कुछ देर बाद उसने अचानक मुझे अपनी बांहों में उठा लिया और टैरेस की दूसरी तरफ़ ले गया.
वहाँ उसने और भी तैयारी की थी. मुझे देखते ही सब समझ में आ गया।

वहाँ एक बड़ा सा बेड था और बहुत खूबसूरत सजावट थी।
मुझे ऐसा लगा कि जैसे आज मेरी सुहागरात की चुदाई कहानी लिखी जायेगी!

वो मुझे बेड पर ले गया और मुझे चूमने लगा. वो पूरे जोश में लग रहा था। वो धीरे-धीरे मेरे पूरे शरीर को चूमने लगा।

मुझे चूमते हुए वो मेरे कपड़े भी उतारने लगा। फिर वो मेरे बूब्ज़ चूसने लगा। मेरे बूब्ज़ देख कर तो वो पागल ही हो गया था. वो कभी मेरे बूब्ज़ को कभी आराम से सहलाता, चूमता और कभी जोर से दबा देता।

इन सब में मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. मैं जैसे अपना हनीमून मना रही थी. मैं उसका पूरा साथ दे रही थी।
जोश में मैंने उसकी शर्ट के सारे बटन तोड़ दिये और शर्ट उतार दी।

फिर उसने मेरे पूरे कपड़े उतार दिये सिर्फ पैंटी को छोड़कर!
और वो धीरे-धीरे मेरे बदन को चूमता और चाटता हुआ नीचे बढ़ता गया।

वो मेरे पेट और नाभि को चाटने लगा. ये सब मुझे पागल कर रहे थे। वो मेरी जांघों से होता हुआ मेरे पैरों तक पहुँच गया और मेरे पैरों की उँगलियाँ चूसने लगा।

फिर वो मेरे जांघों को सहलाने लगा और फिर मेरी टाँगों को खोल कर मेरी चूत के आसपास चूमने लगा और पैंटी के ऊपर से ही मेरी चूत चाटने लगा।

मेरी पैंटी पहले से ही गीली हो चुकी थी।

फिर उसने मेरी पैंटी भी उतार दी और मेरी चूत पर उँगलियाँ टहलाने लगा. फिर मेरी चूत को उसने अपने मुँह में भर लिया और उसे चाटने लगा।
वो अपनी जीभ से मेरी चूत को अंदर से चाटने लगा।

फिर उसने अपनी एक उँगली भी मेरी चूत में डाल दी और अंदर-बाहर करने लगा।

मैं अपना आपा खो चुकी थी. मैं पूरे उफ़ान पर थी. मेरे मुँह से बस सिसकारियाँ और आहें निकल रही थी। मैंने अपने पंजों से उसके सर को अपनी चूत में पूरा जकड़ लिया।

थोड़ी ही देर में मेरी चूत से पानी झड़ गया और मैं निढाल हो गई।
मेरे शरीर में जैसे कोई ताकत नहीं थी।

पर विवेक का जोश कहीं नहीं गया था. वो अब भी मेरे जिस्म को चूम रहा था।

उसने मुझे उल्टा किया और मेरे बदन को पीछे से चूमने लगा. और फिर मेरी गाँड चाटने लगा।

कुछ देर तक ऐसे ही मेरे पूरे बदन और बूब्ज़ को चूमता रहा. और फिर मुझे बांहों में जकड़ कर मेरे होठों को चूमने लगा।

धीरे-धीरे मेरा भी जोश लोटने लगा और मैं भी उसे चूमने लगी।

अब मेरी बारी थी. मैंने उसे नीचे लिटाया और उसके ऊपर चढ़ कर उसे चूमने लगी। फिर उसका जिस्म चूमते हुए मैं नीचे गई और उसका पैंट उतार दिया। उसके अंडरवियर के अंदर लंड का उभार मुझे नशा दिला रहा था।
मैंने ऊपर से ही उसके लंड को काटना और चाटना शुरु कर दिया।

उसका लंड मुझे काफ़ी दमदार लग रहा था।

फिर मैंने उसका अंडरवियर उतारा तो उसका लंड एकदम सलामी देने खड़ा हो गया। उस वक्त तक मैंने इतना अच्छा लंड नहीं देखा था। मुझे तो उस लंड से प्यार हो गया। मैंने उसे चूसना शुरु कर दिया, उसका टेस्ट भी बहुत अच्छा था।

मैं उसके लंड और बाल्स को चूस रही और वो सिसकारियाँ भर रहा था।

फिर वो जोश में आ के मेरे मुँह को ही चूत की तरह चोदने लगा। वो अपने हाथों से मेरे सर को पकड़ कर अपने लंड को पूरा मेरे मुँह में धकेलने लगा। उसका लंड मेरे गले के अंदर तक जा रहा था।

कुछ देर तक ऐसा करने के बाद उसने मेरे मुँह में अपना पानी छोड़ दिया।

फिर कुछ देर हम पड़े रहे और किस करते रहे।

कुछ ही देर में उसका लंड फिर से तन के खड़ा हो गया। मुझे समझ आ गया कि अब मेरी चूत की खैर नहीं।

वो उठा. उसने मेरी टाँगों को खोल दिया. फिर मेरी चूत पर उँगलियाँ फेरने लगा।
फिर उसने मुझे उठा के एक किस किया. और तुरंत ही अपना लंड मेरे मुँह में डाल कर अंदर-बाहर करने लगा. इस तरह उसने मेरे मुँह से अपना लंड गीला कर लिया.

तब मेरी टाँगें खींचकर उसने मेरी चूत पर थूका. फिर लंड टिका कर जोर से धक्का मारा और अपना लगभग आधा लंड अंदर डाल दिया।
इस अचानक और जोरदार वार से मेरी हालत खराब हो गई. मेरे मुँह से जोरदार चीँख निकल गई।

उसने मुझे पूरी तरह से जकड़ लिया और अपने होंठों से मेरे होंठों कैद कर लिया।

अभी तक मैं पहले वार से उभरी भी नहीं थी. उसने फिर एक जोरदार झटका देकर अपना पूरा लंड मेरे अंदर डाल दिया।

मैं उसकी बांहों में बेबस पड़ी थी और चाह के भी कुछ नहीं कर पा रही थी।

उसका बड़ा सा लंड मेरी चूत चीरता हुआ अंदर चला गया. मैं दर्द से तड़प रही थी पर कुछ नहीं कर पा रही थी।
मेरी चीख भी उसके होंठों तले दबी रह गई।
मैंने उससे पहले इतना बड़ा कभी नहीं लिया था।

फिर उसने आराम से धीरे-धीरे लंड बाहर निकलना शुरु किया तो मेरी जान में जान आने लगी.
पर लंड निकालते ही उसने फिर अपना लंड पूरी ताकत से अंदर डाल दिया।

अब मेरी हालत और बुरी हो गई। मेरी आँखों से आँसू आ गए।

उसने फिर तीन-चार बार ऐसा किया. फिर मुझे अच्छा लगने लगा। अब मैं भी उसका साथ देने लगी।

धीरे-धीरे उसने अपनी पकड़ ढीली कर दी और मुझे तेज़ी से चोदने लगा। वो बेड भी अपनी उछाल की वजह से हमारी चुदाई में मदद कर रहा था। उसका लंड मेरी चूत में काफ़ी अंदर तक जा रहा था जितना अंदर पहले कोई नहीं पहुँचा था।

मैं इतने में झड़ गई. पर वो अभी भी लगा हुआ था।

फिर उसको नीचे लिटा के मैंने उसके ऊपर बैठ के घुड़सवारी की. उसके बाद उसने मुझे घोड़ी बना के चोदा।

फिर उसने मुझे उल्टा लिटाया और मेरे नीचे तकिया रख दिया. उसने मेरी गांड ऊँची की और पीछे से मेरी चूत चोदने लगा।

मैं उस बेड और विवेक के लंड के बीच फंस गई थी. विवेक पूरी ताकत से मेरी चूत को चीर रहा था. और वो बेड की उछाल जो मुझे वापस लंड की तरफ़ धकेल रही थी।

इस तरह मैं कई बार झड़ गई और वो भी मेरे अंदर ही झड़ गया।

पूरी रात हमने कई बार चुदाई की. उसने मुझे अलग-अलग पोजीशन में चोदा।

सुहागरात की चुदाई के बाद न जाने कब हमारी आँख लग गई।

सुबह सूरज की चमकती रोशनी से मेरी आँख खुली। दिन निकल आया था. हम खुले टैरेस पर बिना कपड़ों के सो रहे थे. पर ऊँची बिल्डिंग होने की वजह से किसी के देखने का डर नहीं था।

विवेक मेरे ऊपर सोया हुआ था और अभी भी उसका लंड काफ़ी सख्त था. उसके लंड का सर अभी भी मेरी चूत में था।

मैंने उसे किस कर के उठाया. उसने मुझे भी किस करना शुरु कर दिया और लंड हल्के से अंदर-बाहर करने लगा।

कुछ दस-पंद्रह मिनट के बाद वो मुझे अपनी बांहों में उठा कर कमरे में ले गया।

रात भर की चुदाई के बाद मेरा जिस्म दर्द से टूट रहा था।

फिर हम साथ में नहाए और कुछ खा पीकर के कुछ देर सो गये।

मैं वहाँ पाँच दिन रही और इस बिना शादी के हनीमून के दौरान हमने खूब सेक्स किया.

साथ ही उसने मुझे पूरा शहर घुमाया. हमने नाइट पार्टी की, क्लब और बार वगैरा गये और बहुत मस्ती की।

ये मेरे यादगार पलों में से एक है।

आखिरी दिन मेरे लौटने से पहले भी हम कमरे के दरवाजे से लग कर एक-दूसरे से लिपट कर काफ़ी वक्त तक किस करते रहें।

 11,775 total views,  1 views today

Tagged : / / / / /