Redirecting in 20 seconds...

मैं गांड उठा उठा कर चुदवाने लगी

नमस्कार मैं 41 साल की औरत हूं मेरा नाम सुरभि है।  आज मैं आपको अपने सेक्स कहानी सुनाने जा रही हूं यह मेरी कहानी सच्ची कहानी है आज मैं इस कहानी में आपको यह बता रही हूँ  कि मेरा दामाद कैसे मुझे प्रेग्नेंट कर दिया मेरी बेटी तो प्रेग्नेंट है ही मैं भी 2 महीने की प्रेग्नेंट हूं। यह सब कब कैसे और क्यों हो गया वह मैं आपको सिलसिलेवार तरीके से कहानी के माध्यम से इस वेबसाइट पर लिख रही हूं ताकि मैं अपना मन हल्का कर सकूं।

मेरी बेटी आकांक्षा की शादी दिल्ली के एक अच्छे खानदान मैं हो गई। मेरे दामाद जी एक आईटी कंपनी में काम करते हैं और बहुत बड़े पद पर हैं पैसे भी खूब  है उनके पास उनके माता-पिता उनके साथ नहीं रहते मेरे दामाद जी नोएडा में रहते हैं और उनके मम्मी-पापा दोनों दिल्ली में रहते हैं । उनकी एक बहन है वह विदेश में रहते हैं जो शादीशुदा है। वह अपने मम्मी पापा को 6 महीने के लिए अपने यहां बुला ली तो दामाद जी का  मन नहीं लगने लगा था शादी पिछले साल ही हुई थी और मेरी बिटिया आकांक्षा को भी मन था कि मैं कुछ दिन के लिए उसके पास जाकर रहूं मेरी बेटी भी एक प्राइवेट कंपनी में काम करती है ।

तो मैं उन दोनों के आग्रह पर मैं बेटी दामाद  के पास ही चली गई। लखनऊ में सिर्फ आकांक्षा के पापा और मेरी छोटी बेटी नेहा रहने लगे मेरे पति भी बोले कि जाओ थोड़े दिन तक अपनी बेटी के साथ रहकर आओ तुम्हें अच्छा लगेगा मैं और नेहा दोनों यहां पर रह लेंगे कोई दिक्कत नहीं होगा। और मैं दिल्ली के लिए रवाना हो गई . दामाद जी मुझे स्टेशन पर लेने के लिए आए हैं बेटी भी साथ आए वह दोनों बहुत खुश हुए और फिर मैं नोएडा के लिए निकल गई जहां पर वह लोग रहते थे ।

समय बीतता गया हम तीनों ही एक-दूसरे से काफी घुलमिल गए थे दामाद जी बहुत अच्छे स्वभाव के थे तो हंसी मजाक करते थे।  उसके बाद मैं मेरी बेटी और मेरा  दामाद ऐसे रहने लगे, जैसे कि दोस्त हो, मुझे अपने दामाद का आदत बहुत अच्छा लगा।  कुछ दिनों के बाद मेरी बेटी आकांक्षा को ऑफिस काम के लिए बेंगलुरु जाना हुआ।  और जाना भी जरूरी था इसलिए मैं और दामाद जी उसको रुक भी नहीं पाए क्योंकि वह भी एक अच्छी कंपनी में काम करते हैं।  जब आकांक्षा चली गई तो हम दोनों को भी मन नहीं लगने लगा था मेरे दामाद जी भी काफी उदास रहने लगे थे और मैं भी उदास रहने लगी।

दोस्तों एक बात तो सही है रिश्ते चाहे कोई भी हो अगर दिल मिल रहा हूं दोस्तों के बीच कोई दीवार नहीं होता वही हाल हुआ मैं और दामाद जी ऐसे रहने लगे जैसे कि एक दूसरे का हमसफर हो  दोस्त हो।  धीरे-धीरे हम दोनों करीब आ गए 1 दिन में जब खाना बना रही थी तो पीछे से आकर मेरे कंधे पर हाथ रख।  वहां से शुरू हो गया हम दोनों की जिंदगी का पहला अध्याय।

इसके बाद जरूर पढ़ें  फेमिली टूर पर भाई ने मुझे चोदा लगातार तीन रात

मैं किचन में रोटियां  बना रहे थे वह पीछे से आकर मेरे कंधे पर हाथ रखकर बात करने लगे मैं भी कुछ नहीं बोली मुझे उनका हाथ रखना अच्छा लगने लगा इससे मुझे लगा अपनेपन का एहसास तो मैं मना भी नहीं करी।  धीरे धीरे उन्होंने अपना हाथ मेरे कंधे पर रखते हुए मेरे सिर पर भी रख दिया फिर वह साइड से मुझे पकड़ दिए और रोटी में जो बेल रही थी उसको वह देखने लगे।

मैं सर झुका के रोटियां बेल रही थी।  तभी दामाद जी बोले कि मम्मी जी आप मुझे बहुत अच्छी लगती हो आप लगती ही नहीं हो कि मेरी मम्मी नहीं आप मेरी दोस्त की तरह लगती हो।  तो मैं भी बोल दे कि हां मैं दोस्त ही हूं तुम्हारी।  उसके बाद में बोली की  चलो खाना खा लेते हैं।   और हम दोनों खाना खाने के लिए बैठ गए।

इतना सब होने के बाद वह मुझे बार-बार घूर कर देख रहे थे कभी वह मेरी चूचियों की तरफ देखते तो कभी मेरी गांड की तरफ देखते कभी मेरे होंठ की तरफ देखते तो कभी मेरे पूरे बदन को निहारते , मैं सब समझ रही थी मैं समझ रही थी कि इनका मन कहीं और डोल रहा है।

पर उनका देखना मुझे भी अच्छा लगने लगा था मुझे लग रहा था आज कुछ होने वाला है क्योंकि मेरे मन में भी कुछ कुछ होने लगा था।

खाना खाकर मैं अपना कपड़े चेंज कि मैं नाइटी पहनी पर उस दिन ऐसा हुआ दोस्तों कि मैं अंदर कुछ नहीं पहनी थी मैं ब्रा नहीं पहनी थी क्योंकि गर्मी ज्यादा थी इसलिए मुझे लगा कि आराम मिलेगा इसलिए मैं अंदर कुछ भी नहीं पहनी ना ब्रा न पेंटी।

मैं बेड पर लेट कर नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर सेक्स कहानियां पढ़ने लगी थी।  एक हॉट कहानी  जो सास और दामाद की थी।  कहानी पढ़ते-पढ़ते लगा आज मेरे पास मौका है और अगर मुझे यह सुख मिल जाता है तो भी कोई बात नहीं।

असल में मेरे पति का उम्र भी हो गया था तो मेरी चुत ** कर नहीं पा रहे थे।  और मैं भी जवान थी तुम मुझे अभी लंड  चाहिए था।  पर मैं कहती कैसे कहानियां जैसे ही खत्म हुई थी मेरे कमरे में आ गए।  मैं जल्दी से अपने मोबाइल बंद की तुम मुझे देखकर कहने लगे कि मम्मी जी आज आप थकी लग रही हो।

तो मैं बोली हां सुबह से आज मैं काम कर रही थी इस वजह से थकान हो गया है।  तो मेरे दामाद से बेड पर बैठ गए और मेरे पैर को अपनी गोद में देखकर दबाने लगे मैं बोले नहीं नहीं ऐसा मत कीजिए आप मेरे पैर मत छुइए।  तो उन्होंने कहा ऐसी कोई बात नहीं आपको तुम्हें पहले ही बोल चुका हूं कि आप मेरी दोस्त की तरह हो  तो आप भी बोले कि हां दोस्त मान सकते हो तो एक दोस्त दूसरे दोस्त की मदद क्यों नहीं करेगा।

इसके बाद जरूर पढ़ें  माँ को मामा जी के साथ चुदते देख मेरी चूत भी गीली हो गयी

और वह मेरे पैर को दबाने लगे 10:15 मिनट हो दोनों पैर को मेरी दबाये और फिर नाइटी को ऊपर कर दिया।  जब जांघ  तक नहीं थी पहुंच गई तो मैं हाथ पकड़ कर रख दी उनको।  फिर उन्होंने मुझे कहा कि आप उलट जाओ मैं आपके पीठ दबा देता हूँ।  और मैं उलट गई।  वह मेरे पीछे दबाने लगे धीरे-धीरे चूतड़ दबाने लगे।  उसके बाद तो दोस्तों उनका हाथ मेरे जिस्म को टटोल रहा था।

मेरे चुत  से पानी निकलना शुरू हो गया था।  क्योंकि जब एक मर्द का हाथ लगा तो मैं खुद को रोक नहीं पाए और मैं खुद काम होने लगे।  मैं सीधा हो गई और मैं उनको देखने लगे मेरी चूचियों को निहार रहे थे।  और धीरे-धीरे उनके कांपते हुए हाथ मेरी चूचियों को मसलने लगे।

मैं कुछ बोल नहीं पाई  मैं उनको नशीली निगाहों से देखने लगी।  उसके बाद तो दोस्तों में अपने बाहें फैला दी और वह मेरे बाहों में  सिमट गए।  अपना  होठ मेरे होंठ पर रख दिया और चूसने लगे। वह अपने हाथों से मेरे चूचियां दबा रहे थे और मेरे सोच को चोद रहे थे हम दोनों ही कामों को गए थे धीरे-धीरे उन्होंने अपने सारे कपड़े खोल दिए और मेरे जिस्म को सहलाते  हुए मेरे नाइटी उतार दी।

मेरी बड़ी-बड़ी चूचियां को देखकर वह पागल हो गए वह मेरे निप्पल को चूसने लगे एक हाथ से वह मेरे शरीर को टटोल रहे थे उन्होंने मेरे पैरों को अलग अलग किया मेरे होंठ को चूसते हुए मेरी एक हाथ से चूची को दबाते हुए और एक हाथ से मेरी चुत  पर हाथ फेरने लगे।

दोस्तों अब मेरे तन बदन में आग लग चुकी थी मैं पागल हो गई थी मैं  सिसकारियां ले रही थी मैं अंगड़ाइयां ले रही थी।  उसके बाद मैंने तुरंत ही उनका लंबा मोटा सा लंड  पकड़ लिया।  पहले खूब हिलाई उसके बाद अपने मुंह में ले ली।   आइसक्रीम की तरह उनके लंड  को चूसने लगी।

अब मेरे चुत  से गर्म पानी निकलने लगा था।  मैं बर्दाश्त नहीं कर पाई मैंने दोनों पैरों को फैला दिया और उनको नशीली आंखों से देखा और बोली थी आज मुझे चोद दो.  वह तुरंत ही मेरे दोनों पैरों के बीच आकर बैठ गए पहले तो उन्होंने खूब मेरी चुत  को चाहता।  फिर उन्होंने उंगली डाली।  गरम रस वह पी रहे थे उंगलियों में  लगा लगा कर।  उसके बाद उन्होंने मेरे दोनों पैरों को अपने कंधे पर रखा।  अपना लंड  मेरी चुत  पर सेट किया।  और जोर से धक्का दे दिया दोस्तों पूरा का पूरा लंड  मेरी चुत  के अंदर चला गया।

मैं धन्य हो गई मोटे लंबे लंड  को अपने अंदर पाकर।  उसके बाद तो मैं हिला हिला कर  अपने गांड को उनके लंड  को चुत  के अंदर लेने लगे।  साथ में मैं उनके बदन को टटोल रही थी वह मेरी चूचियों को दबा रहे थे मुझे चूम रहे थे मुझे किस कर रहे थे।  मैं भी वही सब कर रही थी जो वह कर रहे थे।

जोर जोर से धक्के देने लगे मैं भी गांड उठा उठा कर चुदवाने लगी। उसके बाद तो कभी उलट कर कभी पलटकर कभी ऊपर से कभी नीचे से कभी बैठाकर कभी झुका कर कभी घोड़ी बनाकर कभी कुत्तिया बना कर।

कहीं खड़ा करके कभी लिटा कर कभी टेढ़ा  करके कभी साइड से।  वह मुझे करीब 2 घंटे तक चोदते रहे।  मैं बहुत ज्यादा थक गई थी और वह भी थक गए थे अब मेरे से सहा नहीं जा रहा था।  मुझे दर्द होने लगा था।  मेरी चूचियों को उन्होंने इतनी जोर जोर से दबाया कर उनकी उंगली का निशान मेरी चूचियों पर साफ साफ दिखाई दे  रहा था।

मैं बोली थी दामाद जी आज बस करो मेरी चुत  फट गई है।  आज के लिए इतना ही काफी है।  अब  तो मैं आपकी हूं आप मुझे जैसे चोदो जो करूं अब मैं आपकी  हूं।  फिर उन्होंने जल्दी-जल्दी धक्के देने लगे जोर-जोर से मुझे चोदने लगे मैं भी नीचे गांड घुमा घुमा कर चुदवाने लगी।

और फिर दोनों एक साथ चीखने लगे चिल्लाने लगे और एकदम से हम दोनों  एक साथ ही एक दूसरे को अपनी बांहों में पकड़ कर अपनी पूरी ताकत लगा दी वह ऊपर से धक्के दे रहे थे मैं नीचे से धक्के देने लगी।

उसके बाद उनका सारा बढ़िया मेरी चुत  के अंदर चला गया उसके बाद हम दोनों  शाम तो हो गए।

उस दिन के बाद से हम दोनों ही एक पति पत्नी की तरह रहने लगे साथ नहाते थे साथ खाते थे साथ सोते थे।  उसके बाद 1 महीने मेरा  मेंस नहीं आया।  मैं भूल गई थी कि मेरा मेंस कब आया था।  उसके बाद में  प्रेगनेंसी टेस्ट की तो पता चला मैं प्रेग्नेंट हूं।  दोस्तों उधर मेरी बेटी भी  3 महीने की प्रेग्नेंट है।  और  मेरा भी दूसरा महीना चल रहा है।

जाने कि मैं भी अपने दामाद के बच्चे की मां बनने वाली हूं।  शायद मेरे लिए कैसा रहेगा क्या बुरा रहेगा वह तो मुझे नहीं पता पर मैं क्या करूं समझ नहीं आ रहा है अब देखिए जो होगा देखा जाएगा।

 656,519 total views,  1 views today

Tagged : / / / / / /

मेरा गदराया हुआ बदन

मेरा नाम रशिली है, कानपूर देहात की रहने वाली हु, मेरी उम्र २२ साल की है, लंड का स्वाद अपने पति से ही मिला वो भी उतना नहीं जितना मैं चाहती थी, मन भटकता था चाहती थी किसी किसी पडोश के लड़के से ही चुदवा लू पर डरती थी कही वो ब्लैकमेल ना करे इसलिए मन मार के रह गयी, मेरे दिमाग में एक विचार आया क्यों ना मैं ससुर से ही चुदवा लू, बूढ़े को भी तो बूर का मजा चाहिए क्यों की सास का देहांत हुए करीब १० साल हो गया था, तो मैंने अपने ससुर पे डोरे डालने लगी.

एक दिन ससुर का तबियत ख़राब हो गया था मैंने उनके लिए तेल गरम कर के पुरे शरीर में मालिश की उनके पुरे जिस्म को मैंने अपने हाथ से टटोला और ब्लाउज का ऊपर का हुक खोल के राखी ताकि वो मेरे गदराये हुए चूचियों को निहार सके हुआ भी ऐसा ही, ससुर ने तिरछी नज़र से खूब निहारा मैं मन ही मन खुश हुई, फिर कुछ ऐसी भी हरकत मैंने की जिससे मेरी चूची उनके हाथ को छुआ, मैं उनके हाव् भाव से समझ रही थी की वो ये सब नहीं चाह रहे थे, उनकी नियत ख़राब नहीं थी पर मैं चुदवाने के लिए व्याकुल थी.

मैंने दूसरे दिन आँगन में चापाकल पे नह रही थी और मैंने जानबूझ कर वही टाइम चुना जब वो खेत से घर आते है, बाहर का दरवाजा खुला ही छोड़ दिया, और मैंने अपने ब्लाउज और ब्रा को खोल के नहाने लगी, पेटीकोट कमर पे ही बंधा था, चुचिया यु ही खुला था, मैं रगड़ रगड़ के नहाने लगी, उस दिन कुछ ज्यादा ही नही क्यों की ससुर देर से आये थे, जब वो दरवाजे के अंदर आये वो हैरान हो गए और मैं भी झूठ मुठ की परेशान हो गयी, वो मुझे नंगे देख लिए, मेरा गदराया हुआ बदन किसी के भी होश उड़ाने के लिए तैयार था, वो शरमाते हुए कमरे में चले गए और मैं भी कपडे पहन ली, मैं तिरछी निगाह से देखि तो उनके धोती फुला हुआ था शायद उनका लंड खड़ा हो गया था.

इस तरह से कई दिन हो गए पर मौक़ा नहीं मिला चुदवाने के लिए, एक दिन मैंने रात के करीब २ बजे पेट दर्द का बहाना बनाई और रोने लगी, मेरे ससुर परेशान हो गए कोई डॉक्टर भी नज़दीक में नहीं था, सुबह ही कुछ हो सकता था, मैंने कहा पिताजी आप चिंता ना करो पहले भी कई बार ऐसा हुआ था मेरी माँ गरम सर्सो का तेल मेरे पेट पे मालिश कर देती थी तो छूट जाता था, मैंने कराहते हुए बोली. पिताजी फ़ौरन ही रसोई में गए और चूल्हे से गरम तेल कर के ले आये, मैंने लगाने को कोशिश की पर मैं चाहती थी की वो लगाए, मैंने कहा मैं नहीं लगा पाउंगी, अगर आप लगा दे तो अच्छा हो जाएगा, उनके हाथ कापने लगे बोले बेटी मैं कैसे?

मैंने कहा कोई बात नहीं मैं किसी को नहीं बताउंगी, वो तैयार हो गए और मेरे पेट पे मालिश करने लगे, उसी वक्त मैंने अपने पेटीकोट का नाड़ा खोल दिया और आँख बंद कर ली वो मेरे पेट पे तेल लगाते रहे और मेरी चूचियों को निहारते रहे, आकिहार मेरे सब्र का बांध टूट गया और मैंने कहा, आप मुझे वो सुख दो जो आपका बेटा नहीं दिया अगर आप मना करोगे तो पुरे गाँव में बात फैलाडुंगी की जब मैं सो रही थी उस समय आपने मेरे साथ गलत हरकत किया, मेरे ससुर परेशान हो गए बोले नहीं नहीं ये सब गलत है मैं नहीं कर सकता, उसी समय मैंने कहा मैं अभी घर से बहार चली जाऊूँगी और चिल्लाऊंगी की आपने मेरी इज्जत लूट ली. उन्होंने बोला ठीक है जो तुम चाहो.

मैंने अपने ब्लाउज को उतार दिया और उनको अपने बाहों में ले ली, मैंने सबसे पहले उनको अपना दूध पिलाया फिर मैंने उनको अपना बूर चाटने के लिए कहा करीब १० मिनट बूर चटवाने के बाद मैं काफी कामुक हो गयी थी मेरे दांत पीस रहे थे, बूर से पानी निकल रहा था चूचियाँ टाइट हो चुकी थी, मैंने अपने ससुर का लंड अपने मुह में लेके मलाई बर्फ की तरफ चूसने लगी धीरे धीरे उनका लंड काफी बड़ा और टाइट हो गया फिर मैंने उनके लंड को पकड़ कर बूर के मुह पे रखी और मैंने उनसे पेल देने के लिए कहा,

फिर क्या था उस बूढ़े में जान आ गया वो झटके पे झटके दे रहा था मैं भी गांड उठा उठा के चुदवा रही थी, उसने मुझे गांड भी मार और बूर का तो सत्यानाश कर दिया था उस दिन पर मैं खुश थी क्यों की मेरी वासना की आग को कुछ शांति मिली | करीब ४ महीने से वो मेरे साथ ही सोते है, अब तो मेरे पेट में २ महीने का बच्चा भी है वो भी ससुर का. आशा करती हु की आपको मेरी आपबीती अच्छी लगी होगी,

 4,104 total views

Tagged : / / / / / / / / / / / /

मेरा बदन

हेलो, मेरा नाम सोनाली है I मेरे बूब्स का साइज 32 और मेरे हिप्स का साइज 36 है मैं एकदम भरे हुए जिस्म की औरत हूं।
मुझे देखते ही सब मुझसे अट्रैक्ट हो जाते हैं और मुझे चोदने की ख्याल अपने मन में लाने लगते हैं.

मुझे एक व्यक्ति जिनकी उम्र 40 साल के आसपास रही होगी उनका ईमेल आया वह बहुत ही मैच्योर व्यक्ति थे। उनकी बातों से ही उनका अच्छापन, भलमानसत साफ झलक रहा था. उनकी ईमेल पर मुझसे बहुत अच्छी तरीके से बात हुई. फिर मैंने उन्हें हैंग आउट पर आने को कहा फिर हमारी हैंग आउट पर बात होने लगी.

उस दिन मेरी थोड़ी तबीयत खराब थी. आप समझ रहे हैं ना … लड़कियों की तबीयत हर महीने खराब हो जाती है. उस दिन मेरी तबीयत उसी तरह से खराब थी. मतलब लाल झंडी आई हुई थी.

मैंने उनसे कहा कि आज मेरी तबियत ख़राब है, बाद में बात करूंगी.

उन्होंने मेरी मजबूरी समझी और कहा- ठीक है सोनाली।
मुझे भी लगा कि वे अच्छे इंसान हैं.

फिर मैंने उन्हें एक दिन अपने पास मिलने के लिए बुलाया.
तो उन्होंने मुझसे कहा कि अभी तो मुझे टाइम नहीं है। जैसे ही मैं फ्री होता हूं मैं आपको बताता हूं, मैं आ जाऊंगा.

फिर उनकी और मेरी कॉल पर बात होती रही.

एक दिन उन्होंने मुझसे कहा- सोनाली जी, आप मेरे पास आ सकती हैं क्या?
मैंने उनसे कहा- ठीक है. बताइए कहां आना है मुझे?

और मैं उनके पास मिलने के लिए चली गई. उनकी उम्र 40-42 साल के आसपास रही होगी, थोड़े मोटे से थे लेकिन इंसान बहुत अच्छे थे। इसलिए उनके पास उनसे मिलने के लिए चली भी गई थी.

फिर वे मेरे पास आकर बैठे. उन्होंने मेरा हाथ अपने हाथ में ले लिया और मेरे हाथ पर अपनी उंगलियां फिराने लगे.
मैं भी उनकी तरफ देख कर मुस्कुराने लगी.

फिर वे मेरे बालों में अपनी उंगलियां फिराने लगे और मेरे होठों पर किस करने लगे. मैंने भी अपने हाथ उनके कंधों पर रख लिए थे और मैं उनके होंठ चूसने लगी.
हम दोनों एक दूसरे को किस करने लगे और एक दूसरे में इस तरह से खो गए हमें पता ही नहीं चला कि हमने कब एक दूसरे के कपड़े उतार दिए. तब हम एक दूसरे के बदन को चूम चाट रहे थे।

यह सब करने से मेरी वासना जाग उठी थी तो फिर मैं उनका लंड अपने मुंह में लेकर चूसने लगी. उन्हें भी बहुत मजा आ रहा था. वे भी अपना लंड अपने हाथ में पकड़ कर मेरे मुंह में डालने लगे। थूक का लार मेरे होंठ और उनके लंड से चिपका पड़ा था।

फिर उन्होंने मुझे बिस्तर पर सीधा लेटा दिया और मेरी जांघें फैला दी. मुझे अच्छा तो लग रहा था लेकिन वो इस तरह से मेरी नंगी चूत को घूर रहे थे कि मुझे शर्म आने लगी. मैंने उन्हें रोका तो नहीं पर मैंने अपनी आँखें बंद कर ली.

उन्होंने अपनी उंगली मेरी चूत की दरार पर फिराई तो मेरा पूरा बदन झनझना गया. फिर उन्गोने मेरी चलित को अपनी ऊँगली और अंगूठे के बीच में लेकर मसला तो मेरी सिसकारी निकालने लगी और मेरे चूतड़ अपने आप ही ऊपर को उठाने लगे.
अब तक मेरी चूत कामवासना से पानी छोड़ कर गीली हो चुकी थी और लंड लंड पुकार रही थी.

लेकिन जब मैंने उन्हें देखा कि वे तो मेरी नंगी चूत से खेलने में ही लगे हुए हैं तो मैंने अलसी और कामुकता भारी आवाजा में कहा- अब ऊपर भी आ जाओ ना.

उन्होंने मुस्कुरा कर मेरी आँखों में देखा तो मैं फिर शर्म से पानी पानी होने लगी.

मेरी कामुकता को भाम्प कर वे मेरी नंगी जाँघों के बीच में आये और अपना लंड मेरी चूत की दरार में रगड़ने लगे. अब मुझे गुस्सा आने लगा था कि ये मेरी चूत में अपना लंड घुसा क्यों नहीं रहे हैं.
आखिअर मैंने अपने कूल्हे ऊपर को उचकाये तो उनके लंड का सुपारा मेरी चूत के छेद में फंस गया.
आह … मजा आ गया था मुझे.

मेरी सिसकारी सुन कर उन्होंने एक धक्का लगा कर मेरी चूत में अपना लंड डाल दिया. और साथ ही बहुत तेज तेज धक्के मार मारने लगे.
तेज धक्कों से मुझे दर्द होने लगा, मैं चिल्लाने लगी.

मैंने उनसे कहा- प्लीज आराम से करिए!
फिर वे मुझे मजा दिलाने लगे. मेरे स्तनों पर वे अपना हाथ फिराने लगे.

फिर हमने बहुत देर तक ऐसे ही चुदाई की. उसके बाद उन्होंने मुझे घोड़ी बना लिया और पीछे से अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया. वे मेरी कमर पर किस करने लगे और मेरे हिप्स पर मारने लगे. उन्होंने मुझसे कहा- तुम्हारी कमर बड़ी गोरी है. एकदम चिकनी हो तुम! तुम्हारे पूरे शरीर पर कहीं भी बाल नहीं हैं. इतने बड़े बड़े बूब्स और साथ में चिकनी चूत और एक औरत चोदने में मजा आ रहा है.

मैंने भी हम्म कहकर उनके सवाल का जवाब दिया।

उन्होंने मुझसे कहा कि आज मैं तुम्हें बहुत चोदूंगा.
मैंने कहा- आप मुझे बहुत अच्छे लगे हैं, आप मुझे जितना मर्जी चोद लीजिए।

मेरी ऐसी गरम बातें सुनकर फिर उनको मजा आने लगा. उन्होंने मुझसे कहा- मैं अपने लंड का पानी तुम्हारे मुंह पर गिराना चाहता हूं.
तो मैं घुटनों के बल नीचे बैठ गई और वे अपने लंड से मेरे चेहरे पर मुठ मारने लगे और सारा पानी मेरे गोर चेहरे पर गिरा दिया।

फिर मैंने एक तौलिये से से अपना चेहरा साफ किया और ऐसे ही उनके पास आके बैठ गई।
हम दोनों ऐसे ही बेड पर नंगे लेट गए।

थोड़ी देर बाद उनका लंड फिर से खड़ा होने लगा. अबकी बार उन्होंने मुझे दीवार के सहारे खड़ा कर लिया और पीछे से अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया और मेरी कमर को पकड़ कर आगे पीछे हिलाने लगे.
कुछ देर ऐसे ही करने के बाद फिर हम बेड पर आ गए. उन्होंने मुझे पेट के बल लेटा कर पीछे चूतड़ों की दरार से अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया और मेरे बालों को कस कर पकड़ लिया।

वे मुझे बहुत तेज तेज चोदने लगे. मैं उनके धक्कों का साथ पता नहीं कैसे-कैसे दे रही थी. मुझे ही पता है कि मैं उनके झटके कैसे झेल रही थी. पर अंदर ही अंदर मुझे मजा भी खूब आ रहा था.

और तभी उन्होंने मुझसे कहा- मैं इस बार तुम्हारी चूत में ही झड़ने वाला हूं.
मैंने उससे कहा- नहीं, आप अंदर नहीं करना क्योंकि हमने कंडोम नहीं लगाया था.
उन्होंने मुझसे कहा- नहीं, मुझे तो तुम्हारी प्यारी सी चूत के अंदर ही करना है और मुझे मजा आने वाला है.

मैंने उनसे कहा- ठीक है, कर लीजिए.

और उन्होंने मेरी चूत में ही अपना सारा गरम गरम पानी छोड़ दिया। मुझे उनका पानी अपने अंदर खूब महसूस हुआ।

करीब 1 घंटे में वह दो बार झड़ गए थे फिर हमारी कुछ देर तक ऐसे ही बैठ कर बातें होती रही।

एक डेढ़ घंटे बाद उनका लंड फिर से खड़ा हो गया और उन्होंने मुझसे कहा- प्लीज मेरे लंड को एक बार सक करो!
और मैं उनका लंड फिर से एक बार अपने मुंह में लेकर चूसने लगी.

जब मैं उनका लंड चूस रही थी तो उन्होंने मुझसे कहा- सोनाली, मुझे तुम्हारी गांड मारनी है.
मैंने कहा- नहीं, मैंने आज तक नहीं पीछे से नहीं मरवायी है।
मुझे गांड शब्द का इस्तेमाल करने में शर्म सी महसूस हुई.

उन्होंने मुझसे कहा- प्लीज, एक बार ट्राई करो ना!
मैंने उनसे कहा- ठीक है.

फिर वे एक लोशन लेकर आए और उन्होंने उसको मेरी गांड के छेद पर मल दिया और अपने लंड पर भी लगा लिया. फिर मेरी गांड के छेद पर लगाकर अपना सारा लंड एक ही झटके में मेरी गांड में उतार दिया।

मेरी तो जैसे चीख निकल गई मेरी आंखों में हल्के से आंसू भी आ गए थे।

फिर वे बहुत धीरे धीरे धक्के लगाने लगे और अपने हाथ से मेरी चूत को मलने लगे. मेरी चूत के दाने पर अपना हाथ फिराने लगे तो फिर मुझे थोड़ी सी राहत महसूस हुई और मुझे मजा आने लगा.
तब उन्होंने अपने धक्के की स्पीड थोड़ी सी तेज कर दी और मेरी गांड को भी जमकर चोदने लगे.

बहुत देर तक चोदने के बाद अब मेरी गांड खुल चुकी थी.

तब उन्होंने मुझसे फिर से अपना लंड चूसने को कहा.
मैं गांड से निकला हुआ लंड अपने मुंह में लेकर चूसने लगी। अजीब सी गंध आ रही थी लेकिन इन सब बातों में एक अजीब सा मजा था.

और फिर उन्होंने मुझे पेट के बल लेटा लिया और पीछे से कभी लंड मेरी गांड में डालते तो कभी मेरी चूत में डालते।
वे बहुत देर तक ऐसे ही मेरी चूत और गांड की चुदाई करते रहे.

फिर उन्होंने मुझे सीधी लिटा लिया और मेरे ऊपर आकर मुझे चूमने लगे, मेरे जिस्म का चाटने लगे, काटने लगे, चूसने लगे. उन्होंने मेरे सारे जिस्म को लाल कर दिया था. मेरे बूब्स को चूस चूस कर भी उन्होंने लाल कर दिया था.

मेरे बाल खुल गए थे. आज मुझे पहली बार चुदाई में ऐसा महसूस हुआ कि जैसे आज से पहले मैं चुदी ही नहीं हूँ. इस जोरदार चुदाई में बहुत मजा आया मुझे.

उन्होंने मुझसे कहा- तुम बहुत सेक्सी हो. मेरा मन करता है कि तुम्हें खा जाऊं.
फिर वे पूछने लगे- तुम्हें भी रोज चुदने की आदत होगी?
मैंने उन्हें हम्म कहकर कर जवाब दिया।

अब उन्होंने फिर से मेरी चूत में लंड डाल दिया और मुझसे कहा- अब मैं तुम्हें मजा दिलाऊंगा. क्योंकि अगर मैं तुम्हें पहले ही मजा दिला देता तो तुम मुझे मजा नहीं दिलवाती. जैसे तुम अब चुदी हो तुम फिर वैसे नहीं चुदवाती।

इसलिए वह मेरी चूत में अपना लंड आगे पीछे करने लगे और आराम आराम से मेरे सारे जिस्म को चाटने लगे.

मेरा तो जैसे अब झड़ने का पूरा मन कर रहा था क्योंकि एक चुदने की हवस भी अब खत्म हो गई थी और अंदर कहीं ना कहीं मैं थक सी भी गई थी. अब मुझे चुद के झड़ के बस सोना था.

और मुझे धीरे-धीरे मजा आने लगा. मैंने अपने हाथों से उनके कंधों को पकड़ लिया और अपनी टांगों को उनके चूतड़ के ऊपर रख दिया. वे अंदर तक अपना लंड मेरी चूत में डालने लगे।

मेरा बदन अकड़ने लगा था, मुझे मजा आने वाला था. मेरा मुंह खुल रहा था और मैं अपने मुंह से सांसें ले रही थी.

और मुझे मजा आ गया. जैसे ही मुझे पूरा मजा आया, मैंने अपना दांत हल्के से उनके कंधे पर गड़ा दिए और तेज तेज धक्के मारने लगी।

 12,015 total views

Tagged : / / / / /

चुदाई के मजे

मेरे प्यारे मित्रो, मेरा नाम सुरभि है। मैं एक भरे हुए जिस्म की औरत हूं। मेरी उम्र 30 साल के आसपास है. आप लोग मुझे देखोगे तो मैं आपको एक बेबी डॉल लगूंगी।

मैं अपनी लाइफ में हुई कुछ सेक्स की बातें आप लोगों के साथ शेयर करना चाहती हूं. मैं आपको आज अपना एक सच्चा किस्सा बताना चाहती हूं।

मेरा जिस्म एकदम मस्त है मेरा जिस्म देखते ही लोगों को मुझे चोदने का ख्याल आने लगता है।

मैं एक हाउसवाइफ हूं. मेरी शादी को एक साल हो चुका है। जब मेरी शादी हुई तो मेरे हस्बैंड ने मुझे सुहागरात वाले दिन 5 बार चोदा था। मुझे भी उस रात बहुत मजा आया था।

मेरे हस्बैंड और मैं खूब सेक्स करने लगे. शादी के कुछ समय बाद तक हम दोनों ने खूब मजे लूटे एक दूसरे के साथ सेक्स के खेल खेल के और चुदाई करके!

फिर सेक्स हमारा सामान्य होने लगा जो कि आम जीवन में होता भी है। एक जैसा सेक्स रोज करने से इंसान रोज बोर होने लगता है। तो फिर मेरे हस्बैंड और मैंने कुछ नया करने की सोची।

हमने सिर्फ एक दूसरे को किसी गैर औरत या मर्द के साथ सेक्स करने जैसा फील करने की सोची। हम रियल में किसी के पास नहीं गए।
बस उन्होंने मुझसे कहा- बस फील करो कि मैं तुम्हें किसी और आदमी से चुदवा रहा हूं।

शुरू में मुझे यह बहुत अजीब लगा लेकिन जब वे मेरे साथ सेक्स करते थे और तो मुझसे ऐसी गैर मर्द से चुदाई वाली बातें करते थे तब मुझे बहुत अच्छा लगता था।

उनका एक दोस्त है राज. वह अक्सर घर पर आया करता था.
और मेरे पति ने मुझसे बताया- राज मजाक मजाक में मुझे कहता है कि भाभी बहुत मस्त है। मैं एक बार भाभी के साथ सेक्स करना चाहता हूं. मैं भी इनकी जवानी के मजे लेना चाहता हूं।

मुझे भी राज देखने में एकदम अच्छा लगता था. मैं उसके साथ मजे लेना चाहती थी लेकिन कहीं मेरे हस्बैंड मुझे करैक्टरलेस ना सोचें, इसलिए मैंने कभी अपने मुंह से यह बात नहीं कहीं।
एक रात जब मेरे पति मुझे चोद रहे थे तो उन्होंने मुझसे कहा- आज हम राज को लेकर फील करते हैं कि तुम राज से चुदवा रही हो और मैं तुम्हें देख रहा हूं.
मैंने कहा- ठीक है।

फिर मेरे हस्बैंड ने मुझसे कहा:

मानो एक रात मैंने राज को तुम्हारी चूत चोदने के लिए आमंत्रित किया।
डोर बेल बजी!
और तुमने एक सक्सी नाइटी ड्रेस पहनकर दरवाजा खोला।

तुम्हारी गोरी जांघें बिल्कुल साफ दिख रही हैं. तुम्हें देखते ही राज को लगा कि मानो तुम्हें चोदने के सपने उसके पूरे होने वाले हों।

फिर तुमने सेक्सी नाइट ड्रेस पहनकर हम सबके लिए उस रात खाना बनाया और हम तीनों ने साथ बैठकर खाना खाया।
खाना खाते वक्त भी राज तुम्हें घूर रहा है क्योंकि आज मेरी ब्यूटीफुल वाइफ को चोदने का उसका सपना पूरा होने वाला है।

फिर हम सब रूम में चले गए. वहां जाकर राज तुम्हारे साथ बेड पर बैठ गया और तुम्हारा हाथ अपने हाथ में ले लिया और फिर तुम्हारी गर्दन पर धीरे-धीरे किस करने लगा।

मैं आप लोगों को जानकारी के लिए बता दूं कि जब हम दोनों ये बातें कर रहे थे तो मेरे हस्बैंड का लंड मेरी चूत में था।

फिर उन्होंने मुझसे कहा:

राज तुम्हारे कपड़े उतार रहा है और उसने तुम्हारी नाइटी को तुम्हारे बदन से अलग कर दिया है. अब तुम उसके सामने सिर्फ ब्रा और पेंटी में हो.
उसने दोनों हाथों से तुम्हारे बूब्स को पकड़ लिया है और कह रहा है ‘भाभी … आप तो माल हो. आज आप को चोदने में बहुत मजा आएगा।
और वह प्यार में तुमसे पूछ रहा है ‘भाभी, आज तुम मुझसे चुदवाओगी ना?’
तो तुम भी हां में सर हिला कर जवाब दे रही हो.

और फिर उसने तुम्हें बेड की तरफ धक्का दे दिया और तुम्हारे बूब्स को पागलों की तरह चूमने चाटने और चूसने लगा. उसने तुम्हारे सारे बदन पर थूक लगा दिया. तुम्हारा सारा बदन गीला कर दिया और मैं अपनी वाइफ को किसी और से चुदते हुए देख रहा हूं. तुम पूरे जोश में उसका साथ दे रही हो.

और फिर मेरे हस्बैंड ने मुझसे कहा- अब तुम बताओ कि तुम उसके साथ क्या-क्या करोगी?
तो मैं अपने हस्बैंड से चुदती चुदती कहने लगी:

मैं पूरे जोश में आ गई और मैंने राज को बेड की तरफ धक्का देकर सीधा लेटा दिया. मैंने अपने दोनों हाथों से उसके उसके लंड को पकड़ कर अपने मुंह में डालने लगी। उसके लंड को चूसने लगी.

फिर मैं अपने हस्बैंड से कहने लगी- मुझे राज से चुदना है … मुझे राज से चुदवाओ प्लीज!
मेरे हस्बैंड ने कहा- चल मेरी रानी, आज तुझे दो लंड का भोग लगावाता हूं।

फिर से मैं बोलने लगी:
अब राज ने मुझे सीधा लिटा लिया और अपने लंड को एक ही बार में मेरी चूत में डाल दिया.
मैं चिल्ला पड़ी लेकिन उसने मेरे चिल्लाने की कोई परवाह नहीं की और बहुत तेज तेज धक्के लगाने लगा.

कुछ देर के लिए तो उसके धक्के सहपाना मेरे लिए मुश्किल हो गया लेकिन धीरे-धीरे मुझे मजा आने लगा।

फिर मैंने राज को अपनी बांहों में भर लिया, अपनी दोनों टांगें उठा कर उसके ऊपर रख ली और उसकी कमर पर अपने दोनों हाथ चलाने लगी जैसे मैं उसको उत्साहित कर रही हूँ।
और तेज चोदने के लिए और वह मेरे होठों को अपने होंठों में डालने लगा.
उसने मुझसे कहा- भाभी अपनी जीभ निकालो.

और उसने मेरी जीभ को अपने मुंह में ले लिया. हम दोनों एक दूसरे की पागलों की तरह चूमने और चाट रहे थे और आप हमें दूर से देख रहे थे.

फिर राज ने मुझे घोड़ी बना लिया और पीछे से अपना लंड मेरी चूत में डाल कर घोड़ी की तरह मुझे चोदने लगा. वह मेरे मोटे मोटे चूतड़ों पर दबाकर धक्के मारने लगा. मेरी चीख निकल रही थी. मेरी कमर को पकड़ कर पीछे की तरफ खींचता और अपने लंड से आगे की तरफ जोर लगाता तो पूरा लंड चूत के अंदर चला जाता.
जिससे मुझे बहुत दर्द होता और मैं चिल्ला रही थी.
आप मुझे ऐसे दर्द में चिलाते हुए देख रहे थे।

फिर राज बेड पर सीधा खड़ा हो गया और उसने मुझे अपना लंड चूसने का इशारा किया. मैं भी बेड पर घुटनों के बल बैठ गई और अपने पति के दोस्त का लंड चूसने लगी.
उसने मेरे बालों को पकड़कर अपना पूरा लंड मेरे मुंह में डाल दिया जिससे मेरे मुंह से थूक निकलने लगा।
और वह मेरे मुंह को धकाधक चोदने लगा.

फिर उसने मुझे बेड पर पेट के बल लिटा कर पीछे से मेरी कोली भर ली और अपना लंड मेरी चूत में घुसाकर चोदने लगा. वह मुझे ऐसे चोद रहा था मानो जैसे पूरी खा जाएगा.
और मैं जैसे बस उसकी होती जा रही थी. राज का एक-एक धक्का मुझे पागल कर रहा है।

थोड़ी देर में मुझे मजा आने लगा. अब मैं झड़ने वाली हूं। तो मेरे हसबैंड मेरी चूत में और तेज धक्के लगाने लगे और उन्होंने मुझे ऐसे ही झड़वा दिया। फिर वे खुद भी झड़ गए.

दोस्तो यह थी मेरी और मेरे पति की एक छोटी सी केमिस्ट्री जो शायद आप लोगों को बहुत पसंद आएगी।

दोस्तो, यह मेरे हस्बैंड और मेरे बीच की सेक्स के वक्त के बीच की बातचीत थी।

फिर हमारे बीच में लगभग लगभग रोज ही ऐसा होने लगा हम किसी दूसरे को फील करके सेक्स करने लगे. लेकिन फिर कुछ समय बाद मुझे अब सामान्य लगने लगा मेरे हस्बैंड इससे आगे नहीं बढ़ते थे. वह सिर्फ इस बातचीत और इस फील तक ही सीमित थे.

लेकिन मेरा मन तो अब सच में किसी और से चुदने का करने लगा था। लेकिन आज के समय पर किसी में भरोसा करना बहुत मुश्किल है। मुझे ऐसा व्यक्ति चाहिए जो मुझे चोद कर मेरी चूत की वासना को ठंडी करे. वह हमेशा मेरी मेरी चूत चोदता रहे. वह मुझसे बढ़कर किसी और चीज को अहमियत ना दे।

बात यह भी है कि यह बात मैं अपने पति से कह भी नहीं सकती कि सच में मुझे किसी दोस्त की तलाश है.

मुझे अन्तर्वासना सेक्स स्टोरी साईट के बारे में अपने कॉलेज टाइम से पता है. तो मैंने अपनी यह फेंटेसी सेक्स स्टोरी आप लोगों के साथ शेयर करने की सोची. मैं अन्तर्वासना पर अपनी काल्पनिक ख्यालों वाली कहानी लिख रही हूं यह बात मेरे हस्बैंड को नहीं पता है।

मैं अपने पति से छिपाकर अपनी लाइफ में एक दोस्त चाहती हूं जो हमेशा मेरा साथ दे सेक्स में! और मेरी गर्म जवानी को खूब चूसे. मैं उसके लंड को अपने मुंह में लेकर चूसती रहूं और वह मेरी चूत को अपने मुंह में लेकर चूसता रहे। वह मेरी चूत में आपना लंड डालकर मुझे खूब चोदे। जिसके साथ में पूरी जिंदगी चुदाई के मजे ले सकूं।

 12,409 total views

Tagged : / / / /

गैर मर्द से चुदाई की चाह

मेरी पति मेरी चूत खूब चोदते हैं. लेकिन अब हम दोनों का मन इस चुदाई से भर गया है. हमने कुछ नया करने की चाह में गैर लड़की और मर्द से सेक्स की कल्पना करनी शुरू की.

मेरे प्यारे मित्रो, मेरा नाम सुरभि है। मैं एक भरे हुए जिस्म की औरत हूं। मेरी उम्र 30 साल के आसपास है. आप लोग मुझे देखोगे तो मैं आपको एक बेबी डॉल लगूंगी।

अन्तर्वासना पर यह मेरी पहली कहानी है। मैं अपनी लाइफ में हुई कुछ सेक्स की बातें आप लोगों के साथ शेयर करना चाहती हूं. मैं आपको आज अपना एक सच्चा किस्सा बताना चाहती हूं।

यह एक सच्ची कहानी है अन्तर्वासना पर जब मैं कहानियां पढ़ती हूं तो मुझे कुछ कहानियां पढ़ कर एकदम से फील होता है कि कहानियां रियल नहीं है जिनको फिर मुझे पढ़ने में मजा नहीं आता लेकिन मैं आप लोगों के सामने अपना यह रियल किस्सा पेश कर रही हूं।

मेरा जिस्म एकदम मस्त है मेरा जिस्म देखते ही लोगों को मुझे चोदने का ख्याल आने लगता है।

मैं एक हाउसवाइफ हूं. मेरी शादी को एक साल हो चुका है। जब मेरी शादी हुई तो मेरे हस्बैंड ने मुझे सुहागरात वाले दिन 5 बार चोदा था। मुझे भी उस रात बहुत मजा आया था।

मेरे हस्बैंड और मैं खूब सेक्स करने लगे. शादी के कुछ समय बाद तक हम दोनों ने खूब मजे लूटे एक दूसरे के साथ सेक्स के खेल खेल के और चुदाई करके!

फिर सेक्स हमारा सामान्य होने लगा जो कि आम जीवन में होता भी है। एक जैसा सेक्स रोज करने से इंसान रोज बोर होने लगता है। तो फिर मेरे हस्बैंड और मैंने कुछ नया करने की सोची।

हमने सिर्फ एक दूसरे को किसी गैर औरत या मर्द के साथ सेक्स करने जैसा फील करने की सोची। हम रियल में किसी के पास नहीं गए।
बस उन्होंने मुझसे कहा- बस फील करो कि मैं तुम्हें किसी और आदमी से चुदवा रहा हूं।

शुरू में मुझे यह बहुत अजीब लगा लेकिन जब वे मेरे साथ सेक्स करते थे और तो मुझसे ऐसी गैर मर्द से चुदाई वाली बातें करते थे तब मुझे बहुत अच्छा लगता था।

उनका एक दोस्त है राज. वह अक्सर घर पर आया करता था.
और मेरे पति ने मुझसे बताया- राज मजाक मजाक में मुझे कहता है कि भाभी बहुत मस्त है। मैं एक बार भाभी के साथ सेक्स करना चाहता हूं. मैं भी इनकी जवानी के मजे लेना चाहता हूं।

मुझे भी राज देखने में एकदम अच्छा लगता था. मैं उसके साथ मजे लेना चाहती थी लेकिन कहीं मेरे हस्बैंड मुझे करैक्टरलेस ना सोचें, इसलिए मैंने कभी अपने मुंह से यह बात नहीं कहीं।
एक रात जब मेरे पति मुझे चोद रहे थे तो उन्होंने मुझसे कहा- आज हम राज को लेकर फील करते हैं कि तुम राज से चुदवा रही हो और मैं तुम्हें देख रहा हूं.
मैंने कहा- ठीक है।

फिर मेरे हस्बैंड ने मुझसे कहा:

मानो एक रात मैंने राज को तुम्हारी चूत चोदने के लिए आमंत्रित किया।
डोर बेल बजी!
और तुमने एक सक्सी नाइटी ड्रेस पहनकर दरवाजा खोला।

तुम्हारी गोरी जांघें बिल्कुल साफ दिख रही हैं. तुम्हें देखते ही राज को लगा कि मानो तुम्हें चोदने के सपने उसके पूरे होने वाले हों।

फिर तुमने सेक्सी नाइट ड्रेस पहनकर हम सबके लिए उस रात खाना बनाया और हम तीनों ने साथ बैठकर खाना खाया।
खाना खाते वक्त भी राज तुम्हें घूर रहा है क्योंकि आज मेरी ब्यूटीफुल वाइफ को चोदने का उसका सपना पूरा होने वाला है।

फिर हम सब रूम में चले गए. वहां जाकर राज तुम्हारे साथ बेड पर बैठ गया और तुम्हारा हाथ अपने हाथ में ले लिया और फिर तुम्हारी गर्दन पर धीरे-धीरे किस करने लगा।

मैं आप लोगों को जानकारी के लिए बता दूं कि जब हम दोनों ये बातें कर रहे थे तो मेरे हस्बैंड का लंड मेरी चूत में था।

फिर उन्होंने मुझसे कहा:

राज तुम्हारे कपड़े उतार रहा है और उसने तुम्हारी नाइटी को तुम्हारे बदन से अलग कर दिया है. अब तुम उसके सामने सिर्फ ब्रा और पेंटी में हो.
उसने दोनों हाथों से तुम्हारे बूब्स को पकड़ लिया है और कह रहा है ‘भाभी … आप तो माल हो. आज आप को चोदने में बहुत मजा आएगा।
और वह प्यार में तुमसे पूछ रहा है ‘भाभी, आज तुम मुझसे चुदवाओगी ना?’
तो तुम भी हां में सर हिला कर जवाब दे रही हो.

और फिर उसने तुम्हें बेड की तरफ धक्का दे दिया और तुम्हारे बूब्स को पागलों की तरह चूमने चाटने और चूसने लगा. उसने तुम्हारे सारे बदन पर थूक लगा दिया. तुम्हारा सारा बदन गीला कर दिया और मैं अपनी वाइफ को किसी और से चुदते हुए देख रहा हूं. तुम पूरे जोश में उसका साथ दे रही हो.

और फिर मेरे हस्बैंड ने मुझसे कहा- अब तुम बताओ कि तुम उसके साथ क्या-क्या करोगी?
तो मैं अपने हस्बैंड से चुदती चुदती कहने लगी:

मैं पूरे जोश में आ गई और मैंने राज को बेड की तरफ धक्का देकर सीधा लेटा दिया. मैंने अपने दोनों हाथों से उसके उसके लंड को पकड़ कर अपने मुंह में डालने लगी। उसके लंड को चूसने लगी.

फिर मैं अपने हस्बैंड से कहने लगी- मुझे राज से चुदना है … मुझे राज से चुदवाओ प्लीज!
मेरे हस्बैंड ने कहा- चल मेरी रानी, आज तुझे दो लंड का भोग लगावाता हूं।

फिर से मैं बोलने लगी:
अब राज ने मुझे सीधा लिटा लिया और अपने लंड को एक ही बार में मेरी चूत में डाल दिया.
मैं चिल्ला पड़ी लेकिन उसने मेरे चिल्लाने की कोई परवाह नहीं की और बहुत तेज तेज धक्के लगाने लगा.

कुछ देर के लिए तो उसके धक्के सहपाना मेरे लिए मुश्किल हो गया लेकिन धीरे-धीरे मुझे मजा आने लगा।

फिर मैंने राज को अपनी बांहों में भर लिया, अपनी दोनों टांगें उठा कर उसके ऊपर रख ली और उसकी कमर पर अपने दोनों हाथ चलाने लगी जैसे मैं उसको उत्साहित कर रही हूँ।
और तेज चोदने के लिए और वह मेरे होठों को अपने होंठों में डालने लगा.
उसने मुझसे कहा- भाभी अपनी जीभ निकालो.

और उसने मेरी जीभ को अपने मुंह में ले लिया. हम दोनों एक दूसरे की पागलों की तरह चूमने और चाट रहे थे और आप हमें दूर से देख रहे थे.

फिर राज ने मुझे घोड़ी बना लिया और पीछे से अपना लंड मेरी चूत में डाल कर घोड़ी की तरह मुझे चोदने लगा. वह मेरे मोटे मोटे चूतड़ों पर दबाकर धक्के मारने लगा. मेरी चीख निकल रही थी. मेरी कमर को पकड़ कर पीछे की तरफ खींचता और अपने लंड से आगे की तरफ जोर लगाता तो पूरा लंड चूत के अंदर चला जाता.
जिससे मुझे बहुत दर्द होता और मैं चिल्ला रही थी.
आप मुझे ऐसे दर्द में चिलाते हुए देख रहे थे।

फिर राज बेड पर सीधा खड़ा हो गया और उसने मुझे अपना लंड चूसने का इशारा किया. मैं भी बेड पर घुटनों के बल बैठ गई और अपने पति के दोस्त का लंड चूसने लगी.
उसने मेरे बालों को पकड़कर अपना पूरा लंड मेरे मुंह में डाल दिया जिससे मेरे मुंह से थूक निकलने लगा।
और वह मेरे मुंह को धकाधक चोदने लगा.

फिर उसने मुझे बेड पर पेट के बल लिटा कर पीछे से मेरी कोली भर ली और अपना लंड मेरी चूत में घुसाकर चोदने लगा. वह मुझे ऐसे चोद रहा था मानो जैसे पूरी खा जाएगा.
और मैं जैसे बस उसकी होती जा रही थी. राज का एक-एक धक्का मुझे पागल कर रहा है।

थोड़ी देर में मुझे मजा आने लगा. अब मैं झड़ने वाली हूं। तो मेरे हसबैंड मेरी चूत में और तेज धक्के लगाने लगे और उन्होंने मुझे ऐसे ही झड़वा दिया। फिर वे खुद भी झड़ गए.

दोस्तो यह थी मेरी और मेरे पति की एक छोटी सी केमिस्ट्री जो शायद आप लोगों को बहुत पसंद आएगी।

दोस्तो, यह मेरे हस्बैंड और मेरे बीच की सेक्स के वक्त के बीच की बातचीत थी।

फिर हमारे बीच में लगभग लगभग रोज ही ऐसा होने लगा हम किसी दूसरे को फील करके सेक्स करने लगे. लेकिन फिर कुछ समय बाद मुझे अब सामान्य लगने लगा मेरे हस्बैंड इससे आगे नहीं बढ़ते थे. वह सिर्फ इस बातचीत और इस फील तक ही सीमित थे.

लेकिन मेरा मन तो अब सच में किसी और से चुदने का करने लगा था। लेकिन आज के समय पर किसी में भरोसा करना बहुत मुश्किल है। मुझे ऐसा व्यक्ति चाहिए जो मुझे चोद कर मेरी चूत की वासना को ठंडी करे. वह हमेशा मेरी मेरी चूत चोदता रहे. वह मुझसे बढ़कर किसी और चीज को अहमियत ना दे।

बात यह भी है कि यह बात मैं अपने पति से कह भी नहीं सकती कि सच में मुझे किसी दोस्त की तलाश है.

मुझे अन्तर्वासना सेक्स स्टोरी साईट के बारे में अपने कॉलेज टाइम से पता है. तो मैंने अपनी यह फेंटेसी सेक्स स्टोरी आप लोगों के साथ शेयर करने की सोची. मैं अन्तर्वासना पर अपनी काल्पनिक ख्यालों वाली कहानी लिख रही हूं यह बात मेरे हस्बैंड को नहीं पता है।

मैं अपने पति से छिपाकर अपनी लाइफ में एक दोस्त चाहती हूं जो हमेशा मेरा साथ दे सेक्स में! और मेरी गर्म जवानी को खूब चूसे. मैं उसके लंड को अपने मुंह में लेकर चूसती रहूं और वह मेरी चूत को अपने मुंह में लेकर चूसता रहे। वह मेरी चूत में आपना लंड डालकर मुझे खूब चोदे। जिसके साथ में पूरी जिंदगी चुदाई के मजे ले सकूं।

 703 total views

Tagged : / / / /

मेरी गांड चुदाई

मेरे पति चूत चुदाई से ज्यादा मेरी गांड चुदाई करते हैं. मुझे पता लगा कि वो कई औरतों की गांड चोदते हैं. तो हमारा झगड़ा हो गया. फिर जब मेरी चूत में वासना की आग लगी तो …

अन्तर्वासना के सभी पाठकों को मेरा हार्दिक अभिनन्दन. मैं एक स्कूल टीचर हूँ और अन्तर्वासना की बहुत बड़ी प्रशंसक हूँ और कई वर्षों से अन्तर्वासना की कहानियां पढ़ रही हूँ. मेरी ये पहली कहानी है और मैं आप लोगों के साथ अपना सच्चा अनुभव साझा कर रही हूँ जिसमें मैंने अपने साथ पढ़ाने वाले एक टीचर से सेक्स किया.

मेरा नाम ममता है और मैं एक 37 वर्षीय शादीशुदा महिला हूँ. मैं गुरुग्राम में टीचर के तौर पर कार्य करती हूं. मेरी लम्बाई 5 फीट 5 इंच है और शरीर भरा हुआ है. मेरी फीगर 36-34-40 की है. मेरी गांड बहुत भारी है क्योंकि मेरे पति ने मेरी चूत से ज्यादा मेरी गांड बजाई है.

मेरे पति को गांड मारने का इतना शौक है कि उसने अपने ऑफिस की कई महिलाओं की गांड चुदाई कर रखी है. ये बात मुझे तब पता लगी जब एक दिन हमारा बहुत बुरा झगड़ा हो गया था. उसके बाद हमारे रिश्ते में बहुत ज्यादा खराबी आ गयी.

अब मैं काफी परेशान रहने लगी थी. अपनी ड्यूटी के दौरान भी उदास ही रहती थी. अपने काम को भी मैं ठीक से नहीं कर पा रही थी. अभी दो महीने पहले ही हमारे स्कूल में एक नया अध्यापक ट्रांसफर होकर आया था.

उसका नाम है मनोहर। वो स्कूल में अर्थशास्त्र के टीचर हैं. उनकी उम्र 29 साल और हाइट 5.5 फीट है मगर शरीर एकदम सुडौल और बनावट एकदम कसरती है. वो जितना आकर्षक दिखते हैं उतना ही सुन्दर पढ़ाते भी हैं.

धीरे धीरे मेरी उनसे ऑफिशियल कामों को लेकर बात होने लगी. कुछ ही समय के अंदर हम दोनों में दोस्ती हो गयी और धीरे धीरे हम दोनों काफी अच्छे दोस्त बन गये. उसका एक कारण यह भी था कि वो अपने परिवार से दूर यहां पर अकेले रहते थे.

एक बार उन्होंने शाम में मुझे मिलने के लिए पूछा. मैंने अपने हस्बैंड का बहाना लेकर मिलने से मना कर दिया. अगले दिन फिर उन्होंने बातों ही बातों में कह दिया कि ममता तुम मुझे बहुत सुन्दर लगती हो. मैं आपको सिर्फ अपनी एक अच्छी दोस्त के नाते ही कॉफी पर बुला रहा था.

अपनी मजूबरी पर मेरा गला भर आया और आंखों में आंसू लिये मैं बोली- मनोहर, मेरे पति मुझ पर बहुत शक करते हैं. हमारे बीच के रिश्ते कभी भी अच्छे नहीं रहे हैं, न तो शारीरिक तौर पर और न ही पारिवारिक तौर पर. हम पति पत्नी के झगड़े का असर अब हमारे बच्चों पर भी पड़ने लगा है.

उन्होंने बड़े अपनेपन से मुझसे पूरी बात पूछी तो मैंने अपनी पति के नाजायज़ संबंधों और मेरे साथ उनके द्वारा की जाने वाली मेरी मार-पिटाई के बारे में बताया. मनोहर ने मुझे सांत्वना देते हुए कहा कि अगर मैं इस अत्याचार के खिलाफ कुछ कदम उठाना चाहती हूँ तो वो मेरा साथ देने के लिए तैयार हैं.

उसके हिम्मत देने के बाद मार्च के महीने में एग्जाम के टाइम मैंने अपने पति के खिलाफ घरेलू हिंसा का केस दर्ज करवा दिया जिसके बदले में मेरे पति मनीष ने मुझे घर से निकाल दिया. उस दिन मैं बहुत रो रही थी. पूरे स्कूल के स्टाफ में मेरे ही बारे में चर्चा हो रही थी.

मनोहर ने मुझे स्कूल टाइम के बाद अपने साथ में चलने के लिए कहा. मेरे मना करने के बाद भी वो जोर देकर मुझे अपने घर ले गया. मैं सोच रही थी कि शायद ये मेरी मजबूरी का फायदा उठाने की सोच रहा है. मगर मुझे उसकी इन्सानियत का पता तब लगा जब उसने मुझे अपने हाथ से खाना बना कर खिलाया.

उसके घर में एक ही बेड था. उसने मुझे बेड पर सोने के लिए कहा और खुद ज़मीन पर सो गया. उस दिन मुझे अपने पति मनीष और मनोहर के व्यक्तित्व का अंतर मालूम चला. मैंने पाया कि मनोहर एक अच्छा दोस्त ही नहीं बल्कि एक अच्छा इन्सान भी है.

ऐसे ही एक सप्ताह गुजर गया. मेरे पति मनीष ने इस एक हफ्ते के दौरान न तो मुझे कभी फोन किया और न ही मेरे स्कूल में आकर मुझसे मिलने की ही कोशिश की. अब कुछ दिन मैंने और इंतजार किया. फिर मुझे अपने बच्चों की फिक्र होने लगी.

मनोहर मुझे मेरे बच्चों से मिलवाने के लिए उनके स्कूल में ही ले गया. वहां मेरे बच्चों ने मुझे बताया कि पापा आपके नहीं होने के बाद से एक दूसरी आंटी को घर में बुला रहे हैं. वो आंटी पापा के साथ ही सोती है.

बच्चों के मुंह से ये बातें सुन कर मेरा दिमाग खराब हो गया. मैंने उसी क्षण निर्णय ले लिया कि अब मैं भी किसी की परवाह नहीं करूंगी. मनोहर और मैं उसके बाद घर आ गये.

उस शाम को मैंने मनोहर से कहा कि आज का खाना मैं बना दूंगी.
मनोहर मान गया. हमने खाना बनाया और दोनों ने साथ में खाया और फिर बैठ कर बातें करने लगे. फिर वो बर्तन उठा कर धोने के लिए चला गया.

जब वो बर्तन धोकर वापस आ गया तो मैंने पूछा- तुम शादी क्यों नहीं कर लेते मनोहर?
वो हंसते हुए बोला- अगर मैं शादी करूंगा तो मेरा हाल भी तुम्हारे जैसा ही हो जायेगा. जिस तरह से पति के होते हुए भी फिलहाल मैं तुम्हें संभाल रहा हूं वैसे ही शादी के बाद कोई दूसरी औरत फिर मुझे भी ऐसे ही संभाल रही होती.

उसकी इस बात पर हम दोनों हँस दिये. कुछ देर बैठ कर बातें करने के दौरान दोनों में हँसी मजाक काफी हुआ. फिर हम सोने की तैयारी करने लगे.
मैंने मनोहर से कहा- आओ, तुम भी बेड पर ही सो जाओ.

मनोहर ने मेरे पास सोने से मना कर दिया. वो कहने लगा कि औरत और मर्द के बीच में थोड़ी सी दूरी ही रहे तो अच्छा होता है.
मैंने कहा- अब तो दूरियां खत्म हो जानी चाहिएं. जो भी होगा वह हम दोनों की इच्छा से ही होगा. मैं तुम्हें जबरदस्ती अपने साथ सोने के लिए नहीं कह रही हूं. मगर चूंकि मैं एक औरत हूं और मेरी वजह से तुम्हें जमीन पर सोना पड़े, ये मुझे अच्छा नहीं लगता.

मेरे कहने पर मनोहर मान गया. उस दिन के बाद से मनोहर और मैं साथ में एक ही बेड पर सोने लगे. मगर पहल दोनों में से किसी की ओर से नहीं हो रही थी. कुछ दिन ऐसे ही बीत गये.

एक दिन मुझे लेटे लेटे नींद नहीं आ रही थी. मैं करवट बदल कर लेटी तो देखा कि मनोहर का लंड तना हुआ था. उसकी लोअर को उसके लंड ने ऊपर उठा रखा था. फिर उसने भी करवट बदल ली.

मेरे अंदर बेचैनी सी हो गयी थी. मैं मनोहर को काफी दिन पहले से ही पसंद करती थी. कुछ पल के बाद उसने फिर से करवट ली और उसका लंड वैसा का वैसा तना हुआ था. बार बार उसकी लोअर को ऊपर उछाल रहा था.

मनोहर को बार बार करवटें बदलता हुआ देख कर मैं बोली- क्या हुआ मनोहर?
उसने मेरी ओर देखा और फिर अपने तने हुए लंड की ओर देखा तो उसकी आंखें शर्म से नीचे हो गयीं.
आगे से पहल करते हुए मैंने पूछा- तुम्हें मेरे साथ लेट कर मेरे लिए कुछ फील हो रहा है क्या?

उसने मेरी बात का कोई जवाब नहीं दिया. बस लेटा रहा.
मैं बोली- देखो मनोहर, मैं एक साइंस टीचर हूं. मैं अच्छी तरह जानती हूं कि जब मर्द और औरत के जिस्मों के बीच में इतना कम फासला हो तो इस तरह की भावनाएं आना स्वाभाविक है.

मनोहर बोला- ममता, आप मुझे बहुत अच्छी लगती हो. आपको देखकर मुझे अपनी माशूका की याद आ गयी.
मैंने कहा- तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड भी थी? तुमने कभी बताया भी नहीं मुझे.

वो बोला- कभी इस विषय पर बात करने का माहौल ही नहीं बना.
मैंने कहा- अब तो माहौल भी है. अब तो बता दो अपनी प्रेम कहानी?
फिर मनोहर ने अपनी सारी स्टोरी मुझे बताई कि कैसे उसको एक लड़की से प्यार था, जिसका नाम भूमि था और दो साल पहले उनका ब्रेक अप हो गया. उसके बाद से उसकी जिन्दगी में कोई लड़की नहीं आई और उसने किसी दूसरी लड़की को अपने करीब आने भी नहीं दिया.

मैं उसके साफ दिल प्यार से बहुत प्रभावित हुई और मैंने उसको अपने सीने से लगा लिया.
मैं बोली- कोई बात नहीं, जो हुआ उसको याद करके अब कोई फायदा नहीं है. मैं ही तुम्हारे लिये तुम्हारी भूमि बन जाती हूं.

उसके बाद हम दोनों अलग हो गये और सोने लगे. अगली सुबह हम उठे और तैयार होकर स्कूल जाने लगे. फिर दिन भर स्कूल में काम रहा.
छुट्टी के समय उसके निकलने से पहले मैंने उसको कहा- घर आते हुए एक मेडिकल स्टोर से कॉन्डम का एक पैकेट ले आना.

वो मेरी ओर देख कर मुस्कराने लगा. उसके बाद मैं आ गयी और कुछ देर के बाद मनोहर भी आ गया. हम दोनों ने खाना खाया और फिर बिस्तर पर लेट कर बातें करने लगे.

मैंने उसके कंधे को सहलाते हुए कहा- तो भूमि के साथ तुम क्या क्या करते थे?
वो बोला- क्या मतलब?
मैंने कहा- ज्यादा बनो मत. तुम जानते हो कि मैं सेक्स के बारे में पूछ रही हूं.

वो बोला- पहले तो भूमि अपने चूचे पिलाती थी और फिर चूत भी चुसवाती थी. उसके बाद वो मेरा हथियार अपनी चूत में लगा कर अंदर ले लेती और चुदवाती थी. आगे से चुदवाने के बाद फिर पीछे भी लेती थी. तब जाकर उसको और मुझे शांति मिलती थी.

मन ही मन मैं खुश हो गयी कि चोदू किस्म का जवान लौंडा फंस गया है. इसके साथ तो मैं भी फिर से जवान हो जाऊंगी. मैंने देखा कि उसका लंड उसकी लोअर में फनफना रहा था.

मैंने मनोहर के सीने पर अपने कोमल हाथ से फिराते हुए कहा- तुम्हें मेरी चूचियां कैसी लगती हैं?
वो बोला- मैं तो पहले दिन से ही आपको पसंद करता हूं लेकिन फिर पता चला कि आप शादीशुदा हैं इसलिए कभी कुछ कहा नहीं.

उसकी छाती के निप्पलों को छेड़ते हुए मैंने कहा- अब तो मेरे पति भी मुझसे कोसों दूर जा चुके हैं, अब किसलिए इतनी दूरी बना रखी है.
उसने मेरी चूचियों को छेड़ कर कहा- दूरी कहां है, पास में ही तो हूं.

इतना बोल कर हम दोनों ने एक दूसरे की आंखों में देखा और दोनों के होंठ मिल गये. दोनों एक दूसरे के होंठों के रस को एक दूसरे के मुंह से खींचने लगे. उसका लंड मेरी जांघों में चुभ रहा था. उसने मेरी पीठ और कमर को सहलाते हुए अपनी टांग मुझे पर चढ़ा ली थी. मैं भी उसके जिस्म से लिपटने लगी थी.

जल्दी ही दोनों गर्म हो गये और उठ कर मैंने अपनी मैक्सी और ब्रा को नीचे कर लिया. मनोहर के सामने मेरी चूची नंगी हो गयी. मैंने उसके हाथों को पकड़ कर अपनी नंगी चूचियों पर रखवा दिया और उसने मेरी दोनों चूचियों को दबा कर देखा. उसको मेरी चूची काफी मस्त लगीं और वो उनको मुंह लगा कर पीने लगा.

मनोहर को मैं भी पसंद करती थी इसलिए जब उसके होंठ मेरी चूचियों को चूस रहे थे तो मुझे भी उस पर बेपनाह प्यार आ रहा था. मैं मदहोश होकर उसके बालों में हाथ फिरा रही थी. उससे चूचियां चुसवाते हुए ऐसा लगने लगा था कि मेरी जवानी फिर से जवान हो रही है.

फिर मनोहर ने अपने सारे कपड़े निकाल दिये और मेरे बदन से लिपटने लगा. उसके बदन पर केवल एक अंडरवियर था और मेरे बदन पर मेरी चूत पर पहनी हुई मेरी पैंटी. मनोहर मेरी पैंटी को ऊपर से ही मसलने लगा था. मेरी चूत पानी छोड़ने लगी थी. मैं भी उसके लौड़े को ऊपर से ही सहला रही थी.

फिर उसने मुझे प्यार से नीचे लिटा लिया और हल्के हल्के चुम्बन देने लगा. पहले मेरे गालों पर, फिर गर्दन पर, फिर चूचियों पर, फिर पेट से होता हुआ नाभि पर और फिर मेरी पैंटी की इलास्टिक तक पहुंच गया. ऐसा लग रहा था कि जैसे उसने काफी समय से अपनी सेक्स की भूख को दबा कर रखा हुआ था.

फिर उसने मेरी पैंटी को किस करना शुरू कर दिया. मैं मस्त होने लगी. शायद मनोहर मेरी चूत को चाटना चाह रहा था. उसने मेरी पैंटी को खींच कर निकाल दिया. जैसे ही उसने पैंटी उतारी तो मेरी चूत नहीं दिखी बल्कि पैंटी के नीचे बालों का एक घोंसला उसको दिखा.

वो थोड़ा निराश हो गया.
वो बोला- बाल बहुत ज्यादा बढ़ गये हैं आपकी चूत पर. इसकी सफाई करनी पड़ेगी.
उसके बाद उठ कर वो अपना ट्रिमर ले आया और मेरी चूत की सफाई करने लगा.

दो मिनट में ही उसने मेरी चूत को साफ कर दिया.
मैं बोली- ये मेरी चूत के पहरेदार सैनिक थे. अब मेरी चूत सुरक्षित नहीं रही. इस पर हमला हो सकता है.
उसने कहा- अब सैनिक मारे गये हैं. अब इस रानी को ज्यादा सुरक्षा मिलेगी.

उसने मेरी चूत को धोया और फिर कपड़े से पौंछ कर मेरी चूत में मुंह दे दिया और मेरी चूत को जोर जोर से जीभ देकर चाटने लगा.

मैं दो मिनट में ही पगला गयी. मेरी चूत तपने लगी. मनोहर अभी भी मेरी चूत को तेज तेज जीभ चलाते हुए चूस-चाट रहा था.

फिर उसने मेरी चूत में उंगली दे दी और मेरी चूत में उंगली करने लगा. वो तेजी से उंगली चलाने लगा. उसके बाद फिर से मेरी चूत में जीभ देकर चोदने लगा.

अब मुझसे भी बर्दाश्त न हुआ और मैं भी उठ कर उसके लंड को अपने हाथ में लेकर मसलने लगी और उसके होंठों को चूसने लगी. मैंने उसे लिटा लिया और उसकी टांगों की ओर मुंह करके लेट गयी. मेरी चूत उसके मुंह पर जा लगी और मैंने उसके लंड को मुंह में भर लिया.

दोनों 69 की पोजीशन में हो गये और एक दूसरे को चूसने और चाटने लगे. उसका लंड चूसते हुए अब चूत चुसवाने में और ज्यादा मजा आने लगा मुझे. मनोहर भी पूरा मदहोश हो रहा था.
दस मिनट में उसने मेरी चूत का बुरा हाल कर दिया और मैं झड़ गयी. मेरा सारा शरीर ढीला पड़ गया.

मनोहर ने मुझे उठाया और कहा- बाथरूम में जाकर चूत को साफ कर लो.
जब मैं अपनी चूत को धोकर वापस आई तो मनोहर अपने लंड पर कॉन्डम चढ़ा कर बैठा हुआ था.

मैं आकर बेड पर लेट गयी.
मनोहर ने मेरी टांगें फैला दीं और उनके बीच में बैठ गया. वो मेरी चूत पर अपने लंड को रगड़ने लगा.

मनोहर का लंड 6 इंच लम्बा और करीब करीब ढाई इंच मोटा था. मनोहर मेरे कंधों के पास हाथ रख कर मेरे ऊपर झुक गया और मैं अपने हाथ में उसका लंड पकड़ कर अपनी चूत पर रगड़ रही थी और मनोहर मेरे होंठों को चूम रहा था.

अब मैंने मनोहर का लंड अपनी चूत में डाल लिया और एक झटके में ही सारा लंड अंदर चला गया और मनोहर जोर जोर से लंड को अंदर बाहर करने लगा. दो मिनट बाद हमने पोजीशन बदल ली और अब मैं मनोहर के ऊपर बैठ कर लंड की सवारी कर रही थी.

मनोहर अपने हाथों में भर कर मेरे बड़े बड़े चूचे दबा रहा था और बीच बीच में मेरे चूतड़ों पर थप्पड़ मार रहा था. एक जवान मर्द से चुदाई करवा कर मुझे बहुत मजा आ रहा था. अपने पति के साथ मुझे सेक्स में इतना मजा कभी नहीं आया.

पांच मिनट के बाद हमने फिर से पोजीशन बदल ली. इस बार मनोहर ने मुझे उठाया और हम दोनों एक दूसरे की ओर मुंह करके बेड से नीचे जमीन पर खड़े हो गये. मनोहर ने मुझसे एक पैर बेड पर रखने के लिए कहा जिससे कि वो मेरी चूत में लंड डाल सके.

मैंने ऐसा ही किया और मनोहर ने मेरी चूत में फिर से अपना लंड पेल दिया. वो मुझे खड़ी खड़ी चोदने लगा.

मैंने भी उसकी पीठ को नोंचना खरोंचना शुरू कर दिया. मेरी नंगी चूचियां उसकी छाती से चपकी हुई थीं और वो मेरी गांड को भींच भींच कर मेरी चूत में लंड को अंदर तक ठोक रहा था. हर ठोक के साथ मेरे मुंह से आह्ह-आहह् की आवाजें आ रही थी. लंड की ठुकाई से होने वाले उस दर्द में बहुत मजा मिला रहा था मुझे.

चार-पांच मिनट के बाद मनोहर ने मुझे कुतिया बनने को कहा और पीछे से मेरी चूत में लंड पेलने लगा. पांच सात मिनट तक मेरी चूत में जबरदस्त तरीके से झटके लगते रहे. उसके बाद एक बार फिर से मेरा पानी निकल गया. मगर मनोहर का लंड अभी भी वैसे ही खड़ा हुआ था.

मनोहर ने मुझसे कहा- ममता यार, किसी तरह तुम भी मेरा पानी निकालो.
मैं बोली- हाथ से हिला कर निकाल देती हूं.
वो बोला- नहीं, मैं तुम्हारी गांड में निकालना चाहता हूं. अपनी गांड चोदने दो मुझे.

मैं गांड चुदवाने के लिए तैयार हो गयी. मैं फिर से कुतिया बन गयी. मनोहर ने मेरी गांड के छेद पर क्रीम लगाई और मैंने अपने हाथों से दोनों चूतड़ फैला दिये. फिर मनोहर ने अपना लंड मेरी गांड में पेल दिया.

अपने पति से मैं अपनी गांड पहले भी काफी बार चुदवा चुकी थी. मगर मनोहर का लंड मेरे पति से मोटा था. उसका लंड अंदर जाते ही मेरी चीख निकल गयी. मगर मैं दर्द को बर्दाश्त कर गयी. मनोहर मेरी चूचियों को दबाने लगा और धीरे धीरे मेरी गांड में लंड चलाने लगा.

दो मिनट के अंदर ही मुझे मजा आने लगा और फिर जैसे ही उसने स्पीड पकड़ी तो उसके लंड से निकल रहे कामरस से मेरी गांड भी चिकनी हो गयी और क्रीम की चिकनाहट के साथ मिलने से गांड पच-पच की आवाज करने लगी.

मनोहर बोला- मुझे ये आवाज बहुत अच्छी लगती है. जब मैं अपनी गर्लफ्रेंड की चुदाई करता था तो ऐसे ही आवाजें आती थी. भूमि को भी मेरे लंड से चुद कर बहुत मजा आता था.
उसके बाद मनोहर तेजी से धक्के मारने लगा और दो मिनट के बाद उसने तीन चार जोरदार झटकों के साथ अपना माल मेरी गांड में कॉन्डम के अंदर छोड़ दिया.

जब लंड बाहर निकाला तो कॉन्डम में काफी सारा माल भरा हुआ था. उसके माल की इतनी मात्रा देख कर ऐसा लग रहा था कि अगर ये मेरी चूत में छूट जाता तो मुझे गर्भवती बना देता और मैं मनोहर के बच्चे की मां बन जाती.

हम दोनों पूरी तरह से थक गये थे और लेट गये. उसके बाद हमने सुबह सुबह उठ कर एक बार फिर से चुदाई की. सुबह की चुदाई करने के बाद मूड बहुत ही फ्रेश हो गया. बहुत दिनों के बाद मुझे इतना फ्रेश और हल्का फील हो रहा था.

इस तरह मनोहर के साथ मेरी चुदाई का सीन अभी तक चल रहा है. अब हम दोनों सोच रहे हैं कि एक साथ कानूनी रूप से लिविंग रिलेशन में रहना शुरू कर दें.

मैं इंतजार कर रही हूं कि जैसे ही मेरे पति के साथ मेरे तलाक का फैसला आ जायेगा, मैं उसी दिन से मनोहर के साथ खुले रूप से रहना शुरू कर दूंगी.

तो दोस्तो, ये थी मेरे यार टीचर से सेक्स की मेरी रियल कहानी. आप लोगों को मेरी ये हिंदी कहानी कैसी लगी मुझे इसके बारे में अपने मैसेज के द्वारा अपनी राय जरूर बतायें.

 1,653 total views

Tagged : / / / / / / / /