Redirecting in 20 seconds...

मेरी पहली सील पैक चूत की चुदाई

मेरा फिगर 30-28-30 है। मैं 20 साल की हूं और चुदने के लिए बेचैन भी हूं। मैं आपको अपनी पहली चूत मराई की कहानी बताने जा रही हूं। मैं जो भी बताने जा रही हूं यह बिल्कुल एक सच्ची घटना है।

कुछ दिन पहले की बात है कि मैं हॉस्टल से अपने घर जा रही थी। मेरी बड़ी बहन की शादी तय हो गई थी। बहुत सारे दोस्त आ रहे थे और मैंने भी अपने कुछ दोस्तों को बुलाया हुआ था।

उनमें एक दोस्त मेरा बॉयफ्रेंड समीर भी था। वो शादी से दो दिन पहले ही आ गया था। अभी तक मेरी सील पैक चूत की चुदाई नहीं हुई थी। समीर का लंड भी मैंने अभी तक नहीं चखा था।

जब वो शादी में आ गया तो मुझसे अपने रहने का कमरा पूछने लगा।
मैंने उसको मेरा कमरा दिखा दिया। मैं दीदी के पास सोने वाली थी।

उसके बाद मैंने उसको हग किया और किस किया। फिर हम दोनों अपने अपने रूम में सोने चले गये।

रात को मेरी नींद खुल गयी। मुझे कुछ आवाजें आ रही थी। जब मैंने उठकर देखा तो मेरी आंखें फटी रह गयीं. मेरे मामा और मामी दोनों चुदाई में लगे हुए थे. मेरी मामी नीचे नंगी लेटी हुई थी और मामा मेरी मामी की चूत में लंड डाल रहे थे।

मामी मस्त होकर सेक्स के मजे वाली आवाजें निकाल रही थी।

ये देखकर मैं भी गर्म होने लगी. मुझसे भी कंट्रोल नहीं हो रहा था। मैंने वहीं पर अपनी पैंटी के अंदर हाथ डाल लिया और अपनी चूत को रगड़ने लगी।
मामी की चुदाई देखते हुए मैं चूत को सहला रही थी।

फिर मैंने तेजी से अपनी चूत को रगड़ना शुरू कर दिया. मुझे बहुत मजा आ रहा था.

जब जब मामा का लंड मामी की चूत में जा रहा था तो मैं उनके लंड को अपनी चूत में जाता हुआ महसूस कर रही थी।
मैं सोच रही थी कि कोई मेरी चूत में भी ऐसे लंड डाल दे।

अब मामा तेजी से मामी को चोद रहे थे. मैं भी जोर से अपनी चूत को सहला रही थी।
इतने में ही मेरी चूत से एकदम पानी निकल गया। मेरी जांघें पूरी गीली हो गयीं।
मैं फिर वहां से वापस आ गयी.

मैंने बाथरूम में जाकर अपनी चूत को साफ किया और बेड पर आकर लेट गयी. उसके बाद मैं लेटी रही और सोचती रही।
मैं सोच रही थी कि काश कोई लंड मेरी चूत के लिए भी होता। मैं समीर के बारे में सोचने लगी। समीर का लंड मैंने नहीं लिया था।

ऐसे ही सोचते हुए मुझे नींद आ गयी.

फिर जब सुबह मेरी आंख खुली तो मैं मामी की चुदाई के बारे में ही सोच रही थी.
मेरा मन समीर से मिलने का कर रहा था। मैं उसके रूम में चली गयी।

मैं जब वहां पहुंची तो वह नहाकर बाहर आया था। उसने अपनी टांगों पर तौलिया लपेटा हुआ था. वो शायद अपना अंडरवियर ढूंढ रहा था।
फिर मैंने देखा कि उसका तौलिया बेड में अटक गया और खुलकर नीचे गिर गया। वो एकदम से नंगा हो गया.

उसने जल्दी से यहां वहां देखा और तौलिया लपेट लिया. फिर वो पलटा तो पीछे मैं खड़ी दिख गयी।
उसने पूछा- तुम कब आईं?

मैं बोली- मैं बस अभी आई हूँ।
वो बोला- कुछ देखा तो नहीं?
मैं बोली- नहीं।

ये बोलकर फिर मैं उसको तैयार होने के लिए कहकर वापस आ गयी।

मैंने समीर का लंड देख लिया था। उसका लंड 7 इंच के करीब था और 3 इंच का मोटा था। मैं उसका लंड लेना चाह रही थी।

फिर दोपहर में सब लोग शॉपिंग के लिए जाने लगे। मुझे भी चलने के लिए कहा लेकिन मैंने बीमारी का बहाना बनाकर मना कर दिया. मैं वहीं रुक गयी।

उन सबके जाने के बाद मैं समीर के रूम में गयी।
वो लेटा हुआ था.

मैं उसके बेड पर चली गयी और उसके ऊपर लेटकर उसको किस करने लगी। वो भी मुझे किस करने लगा।

फिर उसने मुझे हटाते हुए कहा कि कोई देख लेगा।
मैंने बोला- कोई नहीं देखेगा, सब लोग मार्केट में गये हुए हैं.

उसके बाद हम दोनों फिर से किस करने लगे। उसका हाथ मेरी पैंटी पर गया तो वो गीली हो गयी थी।
वो मेरी चूत को सहलाने लगा।

उसके ऐसे बर्ताव से मैं गर्म हो गयी थी और चुदना चाहती थी।

उसके बाद उसने मेरे बूब्स को दबाना शुरू कर दिया.
मैं नाटक करने लगी कि कोई आ जायेगा।

वो कहने लगा कि मुझे पता है तू चुदना चाह रही है। ज्यादा नाटक मत कर!
फिर उसने मेरे टॉप को ऊपर कर दिया और मेरे बूब्स को चूसने लगा।

मैं भी उसको चूची चुसवाने लगी।
मुझे बहुत मजा आ रहा था. पहली बार मेरे बॉयफ्रेंड ने मेरे बूब्स को चूसा था।

फिर वो जोर जोर से मेरे बूब्स को दबाने लगा और मेरी गांड को भी दबाने लगा.
मुझे मजा आ रहा था लेकिन दर्द भी हो रहा था।

उसका लंड उसकी पैंट को फाड़ने वाला था। मुझे उसके लंड का तनाव साफ महसूस हो रहा था।

वो मुझे सब जगह से चूमने चूसने लगा। मैं यही चाह रही थी. मुझे समीर के साथ बहुत मजा आ रहा था. उसने अपने कपड़े उतारने शुरू कर दिये। मेरे भी कपड़े उसने उतरवा दिये।

मैं बेड पर उसके सामने बिना ब्रा के लेटी थी। वो अंडरवियर में था औऱ मेरे ऊपर लेटकर मेरे बूब्स को पीने लगा. मैं अपने चूचे उसको पिलाने लगी।

फिर उसने मेरी चूत पर लंड लगाना शुरू कर दिया।

मुझे मजा आ रहा था। मैं चाहती थी कि वो लंड को जल्दी से मेरी सील पैक चूत के अंदर डाल दे.
मगर उसके लंड पर अंडरवियर था और मेरी चूत पर पैंटी थी।

वो जोर जोर से मेरे बूब्स को दबा रहा था। मेरे बूब्स लाल हो गये थे। मगर मुझे बहुत मजा आ रहा था। दर्द भी हो रहा था।

फिर उसने मेरी पैंटी में हाथ देकर मेरी चूत में उंगली करना शुरू कर दिया। मैं मचलने लगी।

वो मेरी चूत में उंगली से चोदने लगा।

मैं उसके होंठों को चूसने लगी। उसके लंड को पकड़ने लगी।

वो बोला- रुक जा साली रंडी, तेरी चूत में यही लौड़ा पेलना है मुझे। मुझे पता है कि तू मेरा लंड लेना चाह रही है।
मैं उसको किस करती रही और उसके लंड को पकड़ कर हिलाती रही।

उसके लंड को चूत पर लगवाकर मेरी चूत ने पानी छोड़ दिया था.
वो तेजी से मेरी चूत में उंगली को अंदर बाहर किये जा रहा था.
मैं पागल हुई जा रही थी।

फिर मेरी चूत ने बहुत सारा पानी छोड़ दिया. मेरी चूत पूरी बह निकली।
मुझे बहुत मजा आया।

अब वो मेरी चूत में जीभ से चाटने लगा और मैं पागल होने लगी।
मैं बोली- आज डाल दे, नहीं तो मैं मर जाऊंगी।

वो बोला- हां मुझे पता था साली, आ गयी तू लाइन पर! आज तेरी चूत को चोद दूंगा. फाड़ दूंगा इसको साली। बहुत मन है तुझे लंड लेने का। मैं तुझे आज पूरा लंड दूंगा। तू याद करेगी।

फिर वो अपने लंड पर तेल लगाने लगा.
मैं खुश हो रही थी और डर भी लग रहा था।
मेरी चूत को आज लंड मिलने वाला था लेकिन डर लग रहा था कि समीर का लंड मेरी चूत की क्या हालत करेगा।

उसने मेरी चूत पर भी तेल लगा दिया। फिर उसने मेरी सील पैक चूत पर निशाना लगा दिया. उसने लंड को चूत पर रखा और धक्का देने लगा।

उसका थोड़ा सा लंड ही गया था कि मैं चिल्ला पड़ी- आईई … आह्ह … निकाल इसे … आह्ह … ऊई मां … मेरी चूत … फट गयी … आह्ह … निकाल ले समीर … आह्ह बहुत दर्द हो रहा है मेरी चूत में!

समीर ने मेरी एक न सुनी और मेरी चूत में लंड को डालता चला गया।
उसका पूरा लंड घुसते ही मैं तड़पने लगी।
वो मेरे होंठों को अपने मुंह से चूसने लगा। मेरी आवाजें अंदर ही दब गयीं।

फिर उसने मेरे होंठों से होंठों को हटा लिया और मेरे मुंह पर हाथ रख दिया. वो जोर जोर से मेरी चूत में लंड के धक्के लगाने लगा।
मैं दर्द से तड़प रही थी और रो रही थी।

मेरी चूत से खून निकलने लगा था. समीर मेरी चूत में लंड को पेलता ही जा रहा था।
दस मिनट तक मैं दर्द में कराहती रही और वो मुझे चोदता रहा।

फिर मुझे भी मजा आने लगा. मेरा दर्द चला गया और मैं उसका साथ देने लगी।
अब मैं समीर के लंड से चुदने का मजा ले रही थी.

वो हांफ रहा था. उसके पूरे बदन में पसीना आ गया था।
मैं उसको चूमने लगी और अपनी गांड को उठा उठाकर चुदवाने लगी।

फिर वो और स्पीड से चोदने लगा.
मैंने उसको कस कर पकड़ लिया और फिर मैं झड़ने लगी।

उसके लंड से चुदते हुए मैं झड़ गयी। मुझे बहुत मजा आया लेकिन समीर चोदता ही रहा।

वो मुझे बीस मिनट तक लगातार चोदता रहा। अब वो मेरी चूत को फाड़ने में लगा हुआ था.

मेरी चूत में जलन हो रही थी लेकिन समीर नहीं रुक रहा था।
मैं उसको पीछे धकेलना चाह रही थी।

वो चोदते हुए बोला- साली, जब लंड लेने का मन कर रहा था तब नहीं सोचा कि दर्द भी होगा चुदने में? आज मैं तेरी चूत को फाड़ता रहूंगा। मैं तेरी चूत की प्यास मिटा दूंगा।
ये बोलकर वो फिर से चोदने लगा.

मैं उसके लंड को अपनी चूत में बर्दाश्त करती रही।

फिर उसका निकलने को हो गया. वो बोला- कहां गिराना है?
मैं बोली- अंदर नहीं गिराना है।

जब तक वो लंड को बाहर निकालने की सोचता तब तक उसके लंड से माल छूट गया और उसका माल मेरी चूत में गिर गया।
मैंने गुस्सा होकर कहा- ये क्या किया कुत्ते?
वो बोला- कुछ नहीं होगा. दवाई खा लेना।

फिर वो मेरे ऊपर ही लेट गया.
मुझे अब उस पर प्यार आ रहा था.

वो मुझे चूमने लगा.
और मैं भी उसको चूमने लगी।

वो बोला- अब दर्द नहीं हो रहा है ना?
मैं बोली- जलन हो रही है।

वो लंड को डाले हुए ही मेरे ऊपर लेट गया.
हम दोनों दस मिनट तक ऐसे ही लेटे रहे। उसका लंड मेरी चूत में ही सिकुड़ कर बाहर आ गया था। अब वो उठ गया. मेरी चूत की हालत बहुत बुरी हो गयी थी।

चूत पर खून लगा था और समीर के लंड का माल भी बाहर आ रहा था. मैं उठी तो मेरी चूत में जलन हो रही थी. मैं मुश्किल से बाथरूम में गयी और चूत को साफ किया. समीर ने मेरी मदद की।

फिर उसने मुझे नहलाया। उसके बाद नहाते हुए उसका लंड फिर से खड़ा हो गया. वो मेरी गीली चूचियों को वहीं पर पीने लगा और मैं भी फिर से गर्म हो गयी. समीर ने मुझे बाथरूम में ही चोद दिया।

इस तरह से उस दिन समीर ने दो बार मेरी चुदाई की। उसके बाद हम दोनों तैयार हो गये. मैं अपने रूम में आ गयी। उस दिन मेरी पहली चुदाई हुई थी।

मेरी कुंवारी चूत की चुदाई होने के बाद मैंने अपनी वर्जिनिटी खो दी थी। उसके बाद फिर मैं शादी के दिन भी चुदी। दीदी की सुहागरात के दिन ही मेरी भी सुहागरात हो गयी। अब मैं कुंवारी नहीं रह गयी थी।

दीदी की शादी के बाद समीर वहां से चला गया.
फिर मैं समीर से कई बार चुदी और अभी भी चुदवाती रहती हूं.

इस तरह से मैंने अपनी पहली चुदाई करवाई।

 455,863 total views,  2 views today

Tagged : / / / / / /

मैं एक लंडखोर लड़की हूँ

आप सभी को मेरा नमस्कार. मैं अंजलि शाह हूँ. मैं अपने कॉलेज की एक दिलकश हसीना हूँ और मुझे चोदने के लिए लौंडों की लाइन लगी रहती है. मैं भी एक लंडखोर लड़की हूँ और मुझे एक ही लंड से चुदने में मजा नहीं आता है. इसलिए मैं ज्यादा दिन एक लंड से बंधी नहीं रहती हूँ.

मेरी सेक्स कहानी में चुत चुदाई का रस कुछ यूं है कि पिछले साल हमारे कॉलेज में दीवाली के अवसर पर बीस अक्टूबर को एक कार्यक्रम किया जा रहा था, जिसमें मुझे लहंगा चोली पहन कर एक आइटम डांस करना था.

मैंने 16 तारीख तक बहुत कोशिश की कि बना बनाया मिल जाए, पर नहीं मिला.

मैंने मॉम से कहा, तो मॉम ने कपड़ा लाकर दिया और कहा- कल मोहन भाई के पास जाकर नाप दे आना, वो दो दिन में सिल देगा.
मैंने मॉम से कहा- ठीक है.

मोहन भाई शहर का एक बड़ा मशहूर लेडीज टेलर था, मगर वो जरा टेढ़े मिजाज का टेलर था.

अगले दिन मैं डेढ़ बजे मोहन टेलर की दुकान पर गई. उसकी दुकान बड़ी थी. काफी कारीगर काम करते थे.

जब मैं गई तब दुकान पर लंच टाईम हुआ था, तो सब लोग जा रहे थे. मैंने उस समय एक शर्ट और जींस पहनी थी. मैंने उसको लहंगा चोली सिलने की बात कही.

इस पर मोहन भाई ने मुझे देखते हुए कहा- इन कपड़ों में लहंगा चोली का नाप नहीं होता.
मैंने कहा- मोहन भाई प्लीज. मॉम ने कहा था कि आप सिल दोगे.
उसने कहा- ठीक है … तुम अन्दर जाओ और ट्रायल रूम के बाहर वाले कमरे में बैठो … मैं वहीं आता हूं.

मैं अन्दर गई. उस रूम में एक लम्बा सोफ़ा पड़ा था. थोड़ी देर में मैंने शटर गिरने की आवाज सुनी और अगले ही पल मोहन भाई कमरे में आ गया.

मोहन भाई 30-32 साल का रहा होगा. उसने कहा- ये सब मैं तेरी मां की वजह से कर रहा हूं … वरना वापस भेज देता.
मैंने राहत की सांस ली और शुक्रिया की नजरों से टेलर मास्टर को देखा.

उसने पूछा- कैसा लहंगा चोली सिलवाना है?
मैंने कहा- बैक लैस चोली डोरी के साथ और लहंगा कूल्हों से टाइट और नीचे घेरा वाला सिलवाना है.
उसने कहा- बैकलैस में ब्रा नहीं पहन सकते और इन कपड़ों में नाप नहीं हो सकता.
मैंने कहा- प्लीज मोहन भाई कुछ करो … मुझे 20 तारीख को पहनना है.

उसने कहा- ठीक है … अपनी शर्ट उतारो.
मैंने कहा- क्यों?
उसने कहा- क्या क्या … नाप लेना है … शर्ट में नाप नहीं लिया जा सकता.

मैं कुछ सोचने लगी.
तो उसने कड़क आवाज में कहा- दो दिन में चाहिये या नहीं!
मैंने कहा- हां हां दो दिन में ही चाहिए … ठीक है, मैं शर्ट उतारती हूँ.

ये कह कर मैंने शर्ट उतार दी. अन्दर ब्रा थी.

उसने मेरे दूध देखते हुए पूछा- बैकलैस चोली चाहिए न!
मैंने कहा- हां.
तो उसने कहा- ब्रा भी उतारो.
मैंने ‘नहीं..’ कहा … तो उसने गुस्से से कहा- भग बहन की लौड़ी यहां से … बड़ी आई … मोहन भाई को चूतिया समझ रही है.

उसकी इस बात से मैं डर गई और मैंने जल्दी से ब्रा उतार दी.

वो मेरे संतरों को भेड़िये की नजरों से देखने लगा. फिर उसने मेरे मम्मों को पकड़ा और इंची टेप से नाप लेने लगा. उसने कहा- तेरे दूध छोटे हैं … चोली में पैड लगेंगे, पूरी गोलाई हाथ से नापनी पड़ेगी.

मैं कुछ नहीं बोली.

उसने मेरे उल्टे हाथ की तरफ की चुची के चारों और इंची टेप लगाया … और चूची को नापा. फिर इसी तरह से सीधे हाथ की चुची की नाप ली.

उसने कहा- ब्रा लैस चोली में चूचुक खड़े होते हैं … वर्ना फिटिंग सही नहीं आती.
मेरे दोनों चूचुक तो दबे से थे.
उसने कहा- इन्हें रगड़ कर खड़ा करो.

अब तक मुझे इस खेल में सनसनी होने लगी थी. मुझे मोहन से चुदने की इच्छा होने लगी थी.

मेरे रगड़ने के बाद भी वो खड़े नहीं हुए. तो उसने मेरे चुची को कसके पकड़ा और दबा दिया. मेरे निप्पल फिर भी खड़े नहीं हुए.

वो मेरे पास आया और मेरे एक चूचुक को मुँह में लेकर चूसने लगा … मुझे बेहद चुदास सी फील हुई और मेरे चूचुक खड़े हो गए. हालांकि मैं मोहन की इस हरकत से एकदम से शॉक थी, पर न जाने क्यों मैंने उससे कुछ बोला नहीं.

फिर उसने कहा- अब तेरे लहंगे का नाप लेना है … जींस उतारो.
मैंने मना किया.
उसने कहा- तेरी मां की चूत … उतार साली, नहीं तो ऐसे ही भगा दूंगा.
मैंने जल्दी से जींस उतार दी.

जींस उतरते ही मैं केवल काले रंग की कच्छी में मोहन के सामने खड़ी थी.

उसने मेरा नाप लेना शुरू किया.

उसने कहा- तेरी गांड तो बहुत मोटी है.
मुझे बेहद सनसनी हो रही थी और मेरी चुत में रस आना शुरू हो गया था.

उसने मेरी कच्छी पर गीला निशान देखा और कहा- साली तेरी बुर तो पानी छोड़ रही है … देखूं तो सही.

ये कहते हुए उसने मेरी कच्छी नीचे खींच दी और अपना हाथ मेरी चूत पर डाल दिया.

मैं एकदम से गनगना उठी.

उसने मेरी चुत मसलते हुए कहा- बहन की लौड़ी … तू तो पका हुआ माल है.

ये कह कर उसने अपना मुँह मेरी चूत पर रख दिया. चुत पर मर्द का मुँह लगते ही मैं तो सातवें आसमान पर पहुंच गई.

कुछ देर चुत चूसने के बाद वो खड़ा हुआ और मेरे एक चूचुक को मुँह में लेकर जोर से काटा.
मैंने उसे धक्का दे दिया.
उसने गुस्से में कहा- बहन की चूत, अब देख मैं तेरा क्या हाल करता हूं.

उसने अपना पजामा ढीला किया और उतार दिया. आठ इंच का काला लंड मेरे सामने हिनहिना रहा था. उसने मेरे बाल पकड़े और मुझे नीचे बिठाते हुए कहा- तेरी मां की चूत साली रंडी … चल मेरे लंड को मुँह में डाल.

मैंने टेलर मास्टर का लंड अपने मुँह में डाला और चूसने लगी. वो मस्ती से कराहें भरने लगा.
थोड़ी देर लंड चुसवाने के बाद उसने कहा- अब उधर चल सोफे पर साली बहन की लौड़ी … कुतिया बन जा.

मुझे भी अब चुदवाने की चुल्ल हो उठी थी. मैं जल्दी से उल्टी होकर कुतिया बन गई. उसने पीछे से अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया और एक ही झटके में पूरा अन्दर तक पेल दिया.
मेरी चीख निकल गई. मैंने भी गाली बकना शुरू कर दी और उससे कहा- आह भैनचोद … मेरी चूत फाड़ दी मादरचोद … साले आराम के डाल.

उसने मेरे चूतड़ों पर दो चमाट खींच कर जड़ दिए और बोला- मां की लौड़ी … ऐसे ही लंड झेल.

उसने बेरहमी से लंड चुत के अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया. वो बहुत तेज स्पीड से मुझे चोदने लगा. पांच मिनट में ही मेरी चुत से एक बार पानी निकल गया.

उसने मेरी चूत से लंड निकाला और आगे आकर मुँह में डाल दिया. वो लंड चुसवाते हुए मेरी गांड के छेद में उंगली करने लगा.

मैं उसका मोटा लंड चूसती रही. फिर उसने लंड मुँह से निकाला और पीछे आकर बहुत सारा थूक मेरी गांड के छेद पर थूक दिया. जब तक मैं सम्भलती, उसने एक ही झटके में मेरी गांड में लंड डाल दिया और गांड ठोकने लगा.

मैं कॉलेज में आगे पीछे दोनों तरफ से लंड ले चुकी थी, इसलिए मुझे चुत गांड मरवाने में कोई दिक्कत नहीं थी. लेकिन आठ इंच का मोटा लंड आज मैं पहली बार अपनी चुत गांड में ले रही थी. इससे मुझे दर्द होने लगा था.

साथ ही मेरी गांड कम चुदी होने की वजह से काफी टाइट थी, जिस वजह से मुझे काफी दर्द हो रहा था.

कुछ धक्कों के बाद मेरी गांड ने टेलर के मोटे लंड को झेल लिया था और अब मुझे गांड मराने में मजा आने लगा था. उसने मेरे दूध पकड़ कर मेरी गांड दबाकर चोदनी शुरू कर दी. कुछ ही देर में उसका सारा पानी मेरी गांड में ही निकल गया.

उसने अपना लंड गांड से निकाला और मेरे मुँह में देकर कहा- जल्दी से लंड साफ कर और कपड़े पहन ले.

मैंने लंड चूसा तो मुझे मोहन के माल का बड़ा मस्त स्वाद मिला. इसके बाद कपड़े पहनने के लिए अपनी ब्रा पैंटी उठाई, तो उसने कहा- अपनी ब्रा और कच्छी मुझको दे दे और भाग जा.

मैंने पूछा- लहंगा चोली कब दोगे?
उसने कहा- कल ट्रायल के लिए 12 बजे के करीब तेरे घर पर आऊंगा.
मैंने कहा- कल तो मैं कॉलेज जाऊंगी और कोई घर पर नहीं होगा.
उसने कहा- मां की लौड़ी कल कॉलेज मत जाना … वर्ना लहंगा चोली नहीं मिलेगा.

मैंने हां में सर हिला दिया और घर आ गई.

मोहन के मोटे लंड ने मेरी चुत और गांड को बड़ा सुकून दिया था. मैं अपनी चुदाई को याद करते हुए अपनी चुत मसल रही थी.

अगले दिन मैं कॉलेज नहीं गई क्योंकि मुझे पता था आज मोहन भाई ट्रायल के लिए आएगा. साथ ही मुझे ये भी पता था कि ट्रायल के बहाने वो मुझे चोदने के लिए भी आएगा.

मैं घर पर ज्यादा कपड़े नहीं पहनती हूं इसलिए मैंने बिना ब्रा के एक स्लीवलैस छोटा सा टॉप पहना था और छोटा सा लोअर, जो सिर्फ़ कूल्हे तक का था. घर में मैं कच्छी नहीं पहनती हूं.

मोहन भाई ने 12 बजे का टाईम दिया था. मॉम ऑफिस गई थीं और भाई बहन स्कूल में थे. मैं अकेली ही घर पर मोहन का इन्तजार कर रही थी.

तभी 11 बजे डोरबेल बजी. मैंने घड़ी देखी, तो अभी मोहन भाई के आने का टाइम नहीं हुआ था. मुझे लगा पता नहीं कौन आया होगा.

मैंने दरवाजा खोला, तो मोहन भाई ही आया था और उसके साथ एक 25-26 साल का युवक भी था.

मोहन भाई ने कहा- ये मेरा छोटा भाई चमन है. इसको फिटिंग के बारे में सिखाना था, इसलिए साथ ले आया.
उसने मुझे मेरा लहंगा चोली पकड़ाया और कहा- इसे पहन कर आओ और नीचे कुछ मत पहनना, वर्ना फिटिंग का पता नहीं चलेगा.

मैं अपने कमरे में गई और लहंगा चोली पहना. मैंने लहंगा तो पहन लिया, पर चोली की डोरी नहीं बंध सकी. मैं चोली पकड़े पकड़े बाहर आई और कहा- मोहन भाई, इसकी डोरी नहीं बंध रही है.

मोहन भाई ने चमन को डोरी बांधने को कहा और उसने आराम से बाँध दी.

मैंने कहा- मोहन भाई, फिटिंग ठीक नहीं लग रही.
उसने कहा- ऐसे पता नहीं चलेगा. कहीं फुल साइज़ आइना है क्या?
मैंने कहा- हां मेरे बेडरूम में है.
उसने कहा- चलो वहीं चलते हैं. तभी असली फिटिंग का पता चलेगा.
मैंने असली फिटिंग का मतलब समझते हुए कहा- ठीक है.

हम मेरे बेडरूम में आ गए. मोहन मेरे सामने खड़ा हो गया और कहा- आगे को झुको.

मैंने उसको देखा, तो उसने कहा- फिटिंग देखनी है.

मैं आगे झुक गई. उसने मेरे सामने आकर देखा, मेरी चुचियां बाहर आ रही थीं.

उसने गला 14 इंच का बनाया था.

उसने कहा- चोली तो ढीली लगती है.

मैं खड़ी होने लगी, तो उसने रोक दिया और चमन को बुलाया. चमन को सामने खड़ा करके कहा- देखो आगे से चोली ढीली होती है, तो पूरे चुचे साफ़ दिखते हैं.

 14,811 total views,  19 views today

Tagged : / / / / /